अंतिम संस्कार के बाद लौट आयी युवती । घरवाले खुश, पुलिस अचंभे में

उधमसिंह नगर जिले की सीमा से लगे उत्तर प्रदेश के ग्राम भूबरा से गायब हुई जिस बेटी को मरा समझकर परिजनों ने अंतिम संस्कार कर दिया वह जीजा के साथ घर लौट आई. बेटी को जिंदा देखकर जहां परिजन खुश हैं, वहीं अब यह सवाल खड़ा हो गया है कि जिसका अंतिम संस्कार किया गया वह शव किसका था.

उत्तराखंड की सीमा से लगे उत्तर प्रदेश के ग्राम भूबरा निवासी भूप सिंह की 20 वर्षीय पुत्री राजरानी कुछ दिन पहले रहस्यमय परिस्थितियों में गायब हो गई थी. बुधवार को भूबरा ग्राम के पास ही किसी युवती का अधजला शव बरामद हुआ था.

भूप सिंह ने उसकी पहचान अपनी बेटी राजरानी के रूप में की और पुलिस ने शव उन्हें सौंप दिया. परिजनों ने उसका विधिविधान से अंतिम संस्कार भी कर दिया.

वहीं, गुरुवार देर शाम अचानक राजरानी अपने जीजा के साथ घर पहुंच गई. उसे देखकर परिजन अचंभे के साथ खुशी से झूम उठे. मामले की जानकारी मिलते ही पुलिस भी हैरत में पड़ गई. दिल्ली में निजी व्यवसाय करने वाले युवती के जीजा राकेश मौर्य ने बताया कि वह दिल्ली से लौट रहा था तो मुरादाबाद रेलवे स्टेशन पर उसने राजरानी को अकेले घूमते देखा और उसे लेकर ससुराल आ गया.

स्वार (रामपुर) कोतवाल मनोज कुमार ने भूप सिंह को कोतवाली बुलाकर पूछताछ की. भूप सिंह के परिवार में जहां बेटी के सही सलामत होने की खुशी है. वहीं, बीते दिनों मिला युवती का अधजला शव पुलिस के लिए पहेली बन गया है. पुलिस अब आसपास के थानों से संपर्क कर जानकारी जुटा रही है.

युवती का अधजला शव स्वार पुलिस के लिए चुनौती बन गया है. माना जा रहा है कि युवती को बेहोश कर लाया गया और यहां लाकर आग लगा दिया होगा. वहीं मृतका के पास से दो अंगूठी, गले में लॉकेट, गुलाबी चप्पल, एक घड़ी मिली है.