IndvsAus रांची टेस्ट : भारत 609/9 घोषित, दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलिया के 2 विकेट गिरे

झारखंड राज्य क्रिकेट संघ स्टेडियम में खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच के चौथे दिन ऑस्ट्रेलिया ने अपनी दूसरी पारी में दो विकेट के नुकसान पर 23 रन बना लिए हैं. डेविड वॉर्नर 14 और नाइट वॉचमेन आए नैथन लियोन 2 को जडेजा ने बोल्ड किया. दूसरे ओपनर मैट नेरशॉ 7 रन बनाकर नाबाद लौटे.

इससे पहले चेतेश्वर पुजारा (202) की मैराथन पारी और ऋद्धिमान साहा (117) की जुझारू पारी के दम पर भारत ने झारखंड राज्य क्रिकेट संघ स्टेडियम में खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया पर पहली पारी के आधार पर 152 रनों की बढ़त ले ली. ऑस्ट्रेलिया के पहली पारी के विशाल स्कोर 451 रनों का भारतीय बल्लेबाजों ने मजबूती से जवाब दिया और चौथे दिन रविवार को चायकाल के बाद अपनी पहली पारी नौ विकेट के नुकसान पर 603 रनों पर घोषित कर दी.

भारत को यहां तक पहुंचाने में पुजारा और साहा के बीच सातवें विकेट के लिए हुई 199 रनों की साझेदारी का अहम योगदान रहा. पुजारा ने साहा के अलावा सलामी बल्लेबाज मुरली विजय (82) के साथ भी दूसरे विकेट के लिए 102 रनों की साझेदारी की थी.

भारत ने तीसरे दिन छह विकेट के नुकसान पर 360 रन बनाए थे. चौथे दिन इसी स्कोर से आगे खेलने उतरी मेजबान टीम को पुजारा और साहा की जोड़ी ने मजबूती प्रदान की. इन दोनों बल्लेबाजों ने पहले और दूसरे सत्र में कोई भी विकेट नहीं गिरने दिया.

तीसरे सत्र में पुजारा ने अपना तीसरा दोहरा शतक पूरा किया. तो वहीं साहा ने अपना तीसरा शतक जड़ा. पुजारा को नाथन लॉयन ने ग्लैन मैक्सवेल के हाथों कैच कराया. वहीं साहा को भी मैक्सवेल ने स्टीव ओकीफ की गेंद पर लपक कर पवेलियन भेजा.

पुजारा ने अपनी मैराथन पारी में 525 गेंदें खेलीं और 21 बार गेंद को सीमा रेखा के पार पहुंचाया. साहा ने अपनी पारी में 233 गेंदों का सामना किया और आठ चौकों के अलावा एक छक्का भी लगाया. इन दोनों के जाने के बाद आए रवींद्र जडेजा ने तेजी से रन बनाए और 55 गेंदों में 54 रन बनाकर नाबाद लौटे. उनके साथ ईशांत शर्मा बिना खाता खोले नाबाद लौटे. उमेश यादव ने 16 रनों का योगदान दिया.

साहा, विजय के अलावा सलामी बल्लेबाज लोकेश राहुल ने भी 67 रनों का पारी खेली थी. वह मैच के दूसरे दिन ही पवेलियन लौट गए थे. तीसरे दिन भारत ने विजय, विराट कोहली (6), अजिंक्य रहाणे (14), करुण नायर (23), रविचंद्रन अश्विन (3) के महत्वपूर्ण विकेट गंवाए थे.

ऑस्ट्रेलिया के लिए पैट कमिंस ने अभी तक चार विकेट लिए हैं. ओकीफ को तीन सफलता मिलीं. जोस हाजलेवुड और लॉयन एक-एक विकेट लेने में सफल रहे हैं.

इससे पहले तीसरे दिन शनिवार को चेतेश्वर पुजारा छाए रहे. उन्होंने अपनी नाबाद 130 रनों की जुझारू पारी के दम पर भारत को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच में बनाए रखा.

ऑस्ट्रेलिया के 451 रनों के विशाल स्कोर के सामने भारत ने तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक अपनी पहली पारी में छह विकेट खोकर 360 रन बना लिए हैं. हालांकि भारत अभी भी पहली पारी के आधार पर ऑस्ट्रेलिया से 91 रन पीछे था.

स्टम्प्स तक पुजारा के साथ ऋद्धिमान साहा 18 रन पर नाबाद लौटे. पुजारा के अलावा लोकेश राहुल (67) और मुरली विजय (82) ने भी अर्धशतकीय पारियां खेलीं.

भारत ने दिन की शुरुआत अच्छी की और पहले सत्र में विजय के रूप में एकमात्र विकेट खोकर अपने खाते में 73 रन जोड़े. विजय का विकेट गिरते ही भोजनकाल घोषित कर दिया गया. इसके बाद कमिंस ने दूसरे सत्र में भारतीय कप्तान विराट कोहली (6) और अंजिक्य रहाणे (14) और तीसरे सत्र में रविचंद्रन अश्विन (3) का विकेट चटकाकर, जबकि जोस हेजलेवुड ने तीसरे सत्र में ही करुण नायर (23) को पवेलियन लौटा भारत के संघर्ष की धार थोड़ी कुंद जरूर की.

लेकिन एक छोर संभाले खड़े पुजारा पर न कमिंस, हेजलेवुड की तेज गेंदों का असर हुआ न ही नाथन लॉयन और स्टीव ओकीफ की फिरकी का. वह दिन का खेल खत्म होने तक मेहमानों के लिए सबसे बड़ी चुनौती बनकर डटे रहे. तीसरे सत्र में दो विकेट गिरने के बाद भारत मुश्किल में नजर आने लगा था तथा एक और विकेट उसे गहरे संकट में डाल सकता था, लेकिन साहा ने पुजारा का साथ दिया और भारत को बैकफुट पर जाने से रोका.

दोनों के बीच अब तक 32 रनों की साझेदारी हो चुकी है. तीसरे सत्र में भारतीय बल्लेबाजों ने बिना किसी जोखिम के बल्लेबाजी की और महज 57 रन जोड़े. भोजनकाल तक भारत ने दो विकेट के नुकसान पर 193 रन बनाए थे. दूसरे सत्र में मेजबानों ने 110 रन और जोड़े.

भोजनकाल के बाद खेलने उतरी मेजबान टीम को कप्तान कोहली से काफी उम्मीदें थीं. फील्डिंग के दौरान कंधे में चोट लगने के बाद विराट मैदान से दूर थे. बल्लेबाजी करने आए कप्तान ज्यादा कुछ नहीं कर पाए. वह ओकीफी की गेंद पर ड्राइव करने गए लेकिन गेंद बल्ले का बाहरी किनारा लेकर दूसरे स्लिप में गई जहां आस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ ने उनका शानदार कैच पकड़ा.

रहाणे लय पकड़ने की कोशिश कर रहे थे तभी कमिंस की बाउंस को भांपने में गलती कर बैठे और खराब शॉट खेलकर विकेट के पीछे मैथ्यू वेड के हाथों लपके गए.

इसके बाद नायर ने क्रीज पर कदम रखा. दूसरे छोर पर खड़े पुजारा ने 94वें ओवर की चौथी गेंद पर कमिंस पर चौका मार अपना शतक पूरा किया. यह इस सीरीज में किसी भी भारतीय बल्लेबाज द्वारा लगाया गया पहला शतक है.

ऑस्ट्रेलिया की ओर से पैट कमिंस ने चार विकेट लिए हैं, जबकि स्टीव ओकीफ और जोस हेजलेवुड को एक-एक सफलता मिली है. इससे पहले अपने पहले दिन के स्कोर एक विकेट पर 120 रनों से आगे खेलने उतरी भारतीय टीम ने शनिवार को पहले सत्र में एक विकेट खोकर अपने खाते में 73 रन जोड़े.

पहले दिन राहुल के आउट होने के बाद भारत को अच्छी स्थिति में पहुंचाने वाली विजय और पुजारा की जोड़ी ने इस सत्र में भी अच्छी बल्लेबाजी की. अपने करियर का 50वां टेस्ट मैच खेल रहे विजय ने 50वें ओवर की पहली गेंद पर एक रन लेकर अपना 15वां अर्धशतक पूरा किया. शतक की ओर बढ़ रहे विजय ने ओकीफी की गेंद पर आगे बढ़कर मारने का प्रयास किया, लेकिन चूक गए और वेड ने उन्हें स्टम्पिंग करने में कोई गलती नहीं की.

183 गेंदों पर 10 चौके और एक छक्का लगाने वाले विजय ने पुजारा के साथ दूसरे विकेट के लिए 102 रनों की शानदार शतकीय साझेदारी की. विजय 193 के कुल योग पर आउट हुए और इसके साथ ही भोजनकाल की घोषणा कर दी गई.

विजय और पुजारा की जोड़ी की 2016-17 सत्र में छठी शतकीय साझेदारी है. वह ऐसा करने वाली विश्व की दूसरी जोड़ी बन गए. इससे पहले, एक सत्र में सबसे ज्यादा शतकीय साझेदारी करने का रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया के मैथ्यू हेडन और रिकी पोंटिंग के नाम है, जिन्होंने 2005-06 सत्र में सबसे अधिक सात शतकीय साझेदारियां की थीं.

इसके अलावा, राहुल और पुजारा की जोड़ी एक पूरे सत्र में भारत के लिए सबसे अधिक रनों की साझेदारी करने वाली दूसरी जोड़ी भी बन गई. उन्होंने 2016-17 सत्र में 10 पारियों में 954 रन बनाए हैं. इस सूची में पहला नाम राहुल द्रविड़ और गौतम गंभीर की जोड़ी का है. राहुल और गौतम ने 2008-09 सत्र में भारत के लिए 14 पारियों में 961 रनों की साझेदारी की थी.