नाबालिग से 1000 लोगों ने जबरन बनाए शारीरिक संबंध, किशोरी ने मोटेल पर किया केस

फिलाडेल्फिया।… फिलाडेल्फिया में देह व्यापार, मानव तस्करी करने वाले गिरोह बेहद सक्रिय हैं. वेश्यावृत्ति में शामिल लोग तो कभी-कभी पकड़ में आ जाते हैं, लेकिन होटल मालिक और उसके स्टाफ को खास मुश्किलों का सामना नहीं करना पड़ता.

लेकिन हमेशा उनकी किस्मत इतनी अच्छी हो ऐसा भी नहीं है. कभी-कभार उन्हें भी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. ऐसे ही एक मामले में फिलाडेल्फिया की एक 14 वर्षीय किशोरी ने एक मोटल पर मुकदमा ठोक दिया है. इस मोटल को ‘मानव तस्करी के स्थानीय अड्डे’ के रूप में जाना जाता है. इस मोटल में किराए में कमरे मिलते हैं, जहां कम उम्र की लड़कियों को लेकर लोग आते हैं.

पीड़ित लड़की के वकील नदीम बेज़ार ने वाशिंगटन पोस्ट को बताया कि होटल में किशोरी को 2 साल तक बंधक बनाकर रखा गया और इस दौरान 1000 से भी ज्यादा लोगों के साथ शारीरिक संबंध बनाने के लिए मजबूर किया गया.

वकील ने दावा किया कि इस दौरान होटल के मालिक और स्टाफ मानव तस्करों को किराए पर कमरा देकर लड़की का शोषण करते रहे. होटल ने मुनाफा कमाया, लेकिन यौन उत्पीड़न को रोकने की कोशिश नहीं की. पिछले शुक्रवार को फिलाडेल्फिया के कॉमन प्ली कोर्ट में होटल, उसके प्रबंधक और उसकी पेरेंट कंपनी के खिलाफ केस दर्ज किया गया. यह केस ‘क्लाइन एवं स्पेक्टर फर्म ने पीड़ित लड़की की ओर से दर्ज कराया है.

वकील बेज़ार का कहना है कि यह पेनसिल्वेनिया मानव तस्करी कानून 2014 के तहत दर्ज किया गया संभवत: पहला केस है, जिसमें पीड़ित को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से लाभ कमाने वालों से मुआवजा दिलाने का प्रावधान है. पीड़ित के वकील ने 50,000 डॉलर के मुआवजे की मांग की है.

वकील के मुताबिक लड़की ने अपने माता-पिता से किसी मसले पर विवाद हो जाने के बाद घर छोड़ दिया था. उसके बाद वह बुरे लोगों के समूह के संपर्क में आ गई. उसे यौन दासता में धकेल दिया गया. हालांकि लड़की का उत्पीड़न करने वालों पर दोष सिद्ध हो गया है और वे जेल में हैं. पीड़ित के परिवार और वकीलों को उम्मीद है कि इस अपराध के लिए ‘मोटल मालिक’ जिम्मेदार है.

वकील के मुताबिक, स्टाफ के सदस्यों को भलीभांति मालूम था कि उनके मोटल में लड़की का यौन उत्पीड़न जारी है. दलाल इंटरनेट के जरिए ग्राहकों को लुभाते थे, रेट तय करते थे और वे ग्राहक मोटल की स्वागत डेस्क के सामने से ही गुजरते थे. यहां तक कि मोटल के कर्मचारी ही उन ग्राहकों को लड़की के कमरे तक लेकर जाते थे.

फिलहाल लड़की अपने परिजनों के साथ है और इस असहनीय दर्द से उबरने के लिए थेरेपी ले रही है. इस मामले के सामने आने के बाद कई और पीड़िताओं ने भी अपनी जुबान खोली है. वहीं, होटल मैनेजर यागना पटेल का कहना है कि लड़की के साथ हुई ज्यादती की जानकारी नहीं है.