नैनीताल : नक्सली हमले में शहीद ज्योलीकोट के लाल का पार्थिव शरीर गांव पहुंचा, गांवभर में मातम

छत्तीसगढ़ के सुकुमा में शनिवार तड़के माओवादी हमले में शहीद सीआरपीएफ के 11 जवानों में नैनीताल जिले में ज्योलीकोट क्षेत्र के रोपड़ा गांव निवासी उपनिरीक्षक 43 वर्षीय हीरा बल्लभ भट्ट भी शामिल हैं.

सीआरपीएफ मुख्यालय से उनके शहीद होने की सूचना मिलने के बाद परिवार में कोहराम मच गया. रविवार को उनका पार्थिव शरीर पैतृक गांव पहुंचा. शहादत की सूचना मिलते ही बूढ़ी मां, पत्नी व बच्चे समेत पूरा इलाका गमगीन हो गया.

शनिवार सुबह सड़क खुलवाने के लिए सुकुमा के भेज्जी थाना इलाके में जवान निकले थे तो पहले से घात लगाकर बैठे माओवादियों ने सड़क पर विस्फोट कर चौतरफा हमला बोल दिया. हमले में जवानों को संभलने का मौका तक नहीं मिला.

हमले में 11 जवान शहीद हो गए, जबकि पांच गंभीर रूप से घायल हो गए. शाम को सीआरपीएफ मुख्यालय से हीरा बल्लभ के शहीद होने की सूचना मिली तो मां मंजू देवी व पत्नी सेंट एंथोनी कॉलेज में शिक्षिका समता भट्ट सुदबुध खो बैठीं. शहीद का बेटा शुभम आठवीं और बेटी डिम्पल छठी कक्षा में पढ़ती है.

शहीद के पिता की पूर्व में ही मुत्यु हो चुकी है, जबकि तीन भाइयों में वह सबसे छोटे थे. एसडीएम वंदना सिंह ने चोपड़ा ग्राम पंचायत के तोक रोपड़ा निवासी हीरा बल्लभ भट्ट के शहीद होने की पुष्टि करते हुए कहा कि पैतृक गांव में राजस्व पुलिस भेजी गई है.