राहुल गांधी के गढ़ अमेठी में कांग्रेस प्रत्याशी चौथे नंबर पर, बीजेपी को 5 में से 4, एक सपा की झोली में

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस का गढ़ माने जाने वाले अमेठी और रायबरेली संसदीय क्षेत्र में विधानसभा की दस सीटों में से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को छह सीटें और समाजवादी पार्टी को दो सीटें मिली हैं. कांग्रेस को महज दो सीटों से संतोष करना पड़ा है.

राज्य विधानसभा चुनावों में भारी सफलता पर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने टिप्पणी करते हुए इन दो लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में जीत की तरफ लोगों का ध्यान खींचा. यह सीटें कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी की हैं.

राहुल गांधी की अमेठी लोकसभा सीट के विधानसभा क्षेत्रों में कांग्रेस का सूपड़ा साफ हो गया. पार्टी इस संसदीय सीट के तहत आने वाली सभी विधानसभा सीटें अमेठी, तिलोई, जगदीशपुर, गौरीगंज और सलोन हार गई.

कांग्रेस सोनिया गांधी की रायबरेली लोकसभा सीट की पांच विधानसभा सीटों में से रायबरेली और हरचंदपुर सीट को बचाने में पार्टी कामयाब रही, जबकि सरेनी, बछरावां और ऊंचाहार सीट हार गई.

राहुल के निर्वाचन क्षेत्र में कांग्रेस जगदीशपुर, गौरीगंज और सलोन में दूसरे नंबर पर रही, जबकि तिलोई में तीसरे और खुद अमेठी में चौथे स्थान पर रही. सोनिया गांधी के निर्वाचन क्षेत्र में कांग्रेस बछरावां सीट पर दूसरे सरेनी में तीसरे और ऊंचाहार में चौथे स्थान पर रही.

अमेठी निर्वाचन क्षेत्र से बीजेपी की गरिमा सिंह ने समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी व बलात्कार के आरोपी गायत्री प्रसाद प्रजापति को हराया. कांग्रेस की उम्मीदवार और वरिष्ठ नेता संजय सिंह की पत्नी अमिता सिंह चौथे नंबर पर रहीं. बसपा का उम्मीदवार तीसरे नंबर पर रहा.

अमित शाह ने कहा, ‘दस सीटों में से छह सीटों पर हमने बड़े अंतर से जीत हासिल की, इससे हम बहुत खुश हैं. हम 2014 के चुनावों में यहां अच्छा नहीं कर सके थे. लेकिन, अब आज के बाद से उत्तर प्रदेश में राजनीति को एक नई दिशा मिलेगी.’