तकनीकी खामी के चलते बार-बार बैंक EMI जमा नहीं होने के SMS भेजे रहे थे | अब सब ठीक

भारत के राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) ने बुधवार को कहा कि उस तकनीकी गड़बड़ी में सुधार कर लिया गया है जिस वजह से पिछले कुछ दिनों में कुछ बैंक ग्राहकों की मासिक किश्तों (ईएमआई) की कटौती में देरी हो रही थी.

कुछ बैंकों के ग्राहकों, जिनके ईएमआई को एक निश्चित तिथि पर इलेक्ट्रॉनिक क्लियरिंग सेवा (ईसीएस) के माध्यम से काट लिया जाता था को मोबाइल पर संदेश मिल रहे थे कि तकनीकी कारणों के चलते भुगतान निगम में ईएमआई भुगतान में देरी हो रही है.

राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) ने एक बयान जारी कर कहा, “हम 2-3 दिनों के दौरान एक मामूली तकनीकी गलती का पता लगाया था जिसे अब ठीक कर दिया गया है. भारत के राष्ट्रीय भुगतान निगम ने बताया कि राष्ट्रीय स्वचालित क्लियरिंग हाउस (डेबिट) के माध्यम से ईएमआई ट्रांसफर करने का तरीका सबसे ज्यादा प्रचलित है और इसलिए यह सबसे ज्यादा संवेदनशील है, जिसमें उद्योग को यह सुनिश्चित करवाने की जरूरत है कि यह शेड्यूल के मुताबिक ही काम करती है. साल 2009 में स्थापित, एनपीसीआई देश की विभिन्न खुदरा भुगतान प्रणालियों के लिए एक केंद्रीय बुनियादी ढांचा है