अल्मोड़ा : अब भगवान का घर भी सुरक्षित नहीं, लाखों के घंटियां व घड़ि‍याल चोरी

सुरईखेत मोटर मार्ग पर जिला मुख्यालय नगर अल्मोड़ा से सिर्फ 16 किमी दूर अगाध आस्था के केंद्र मां विजया देवी के मंदिर को भी बदमाशों ने नहीं छोड़ा. आबादी से दूर होने व पुजारी न होने के कारण रात में यहां सन्नाटा रहता है. इसी बात का फायदा उठाकर शातिर चोरों ने मंदिर परिसर में धावा बोल दिया. चोर लोहे के पाइप में मोटी चेन से बंधी घंटियां व घड़ि‍याल सहित भंडार गृह की खिड़की तोड़ अंदर से सैकड़ों घंटियां भी उड़ा ले गए.

सालभर की चुप्पी के बाद घंटी चोर गिरोह क्षेत्र में फिर सक्रिय हो गए हैं. पिछले साल लाखों के घंटे-घड़ि‍यालों की चोरी का खुलासा तो नहीं हो सका, अब गिरोह ने सुरईखेत क्षेत्र के सुप्रसिद्ध विजया देवी मंदिर को निशाना बना 40-40 किलो वजनी (1.60 क्विंटल) बड़ी तथा 2.40 क्विंटल छोटी-बड़ी अन्य घंटियां उड़ा ले गए. इनकी कीमत लगभग 3.50 लाख रुपये आंकी गई है. वारदात में किसी बाहरी गिरोह का हाथ होने का शक है.

वारदात का पता बुधवार सुबह लगा, जब गनोली निवासी दिनेश चंद्र मंदिर में पूजा करने पहुंचे. उन्होंने ग्राम प्रधान चंद्रशेखर फुलारा को घटना के बारे में बताया. प्रधान के अनुसार मंदिर में करीब पांच क्विंटल छोटी बड़ी सैकड़ों घंटियां, जबकि 40-40 किग्रा वजन के चार बड़े घंटे बदमाश उठा ले गए है.

कुल पांच क्विंटल पीतल के घंटे घड़ि‍यालों की कीमत 3.50 लाख रुपये आंकी जा रही है. चोर मुख्य गेट पर एक छोटी घंटी छोड़ गए. राजस्व उपनिरीक्षक जोगाराम ने घटनास्थल का मुआयना किया. शिकायत पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है.

पिछले साल ये मंदिर बने थे निशाना
पिछले साल विकासखंड के प्राचीन बुढ़ मसाण मंदिर, पूजाखेत स्थित न्याय देवता गोलू तथा जालली के भूमिया मंदिर में घंटी चोर गिरोह ने हाथ साफ कर लिया था. यहां से लाखों की घंटियां व घड़ि‍याल उड़ा लिए गए थे. राजस्व पुलिस सालभर बाद भी खुलासा नहीं कर सकी है.