एग्जिट पोल में हार के बाद ‘बबुआ’ अखिलेश ने दिए ‘बुआ’ मायावती से गठबंधन के संकेत

चुनाव खत्‍म हो चुके हैं और अब हर किसी को शनिवार 11 तारीख को आने वाले नतीजों का इंतजार है. लेकिन इससे पहले ही ज्‍यादातर Exit polls ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में बीजेपी को सबसे बड़ी पार्टी बनने का अनुमान व्‍यक्‍त किया है, लेकिन कुछ एग्जिट पोल में भाजपा को स्‍पष्‍ट बहुमत से दूर रहने की संभावना व्‍यक्‍त की गई है.

एग्जिट पोल में इसके साथ ही दूसरे नंबर पर सपा-कांग्रेस गठबंधन की संभावना व्‍यक्‍त की गई है और तीसरे नंबर पर बसपा के रहने का अनुमान लगाया गया है. इसके बीच यूपी से एक बड़ी खबर यह आ रही है कि अखिलेश ने चुनाव के बाद बीएसपी से गठबंधन की संभावना से इनकार नहीं किया है.

बीबीसी हिंदी से बातचीत करने के दौरान अखिलेश यादव ने यह बात कही. मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक इस पर प्रतिक्रिया देते हुए बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी कहा है कि नतीजों के बाद जरूरत पड़ने पर अखिलेश के प्रस्‍ताव पर विचार करेंगे.

गुरुवार को जारी हुए इंडिया न्‍यूज-एमआरसी और टाइम्‍स नाऊ वीएमआर के एक्जिट पोल (exit poll) के मुताबिक यूपी में बीजेपी को सर्वाधिक सीटें मिलने की संभावना जताई गई है. इंडिया न्‍यूज ने बीजेपी को जहां 185 और टाइम्‍स नाऊ ने 190-210 सीटें मिलने की संभावना जताई है.

हालांकि एबीपी-लोकनीति सीएसडीएस के मुताबिक बीजेपी और सपा-कांग्रेस गठबंधन के बीच टक्‍कर के आसार हैं. कुल मिलाकर 403 सदस्‍यीय विधानसभा में इन पोलों के बहुमत के अनुसार बीजेपी नंबर वन पार्टी बन सकती है.

जहां कई चैनल अपने एक्जिट पोल में यूपी में बीजेपी को सबसे बड़ी पार्टी के रूप में दिखा रहे हैं, ऐसे में राज्य में सत्ताधारी दल समाजवादी पार्टी के नेताओं में खलबली मचना स्वभाविक है. समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता और यूपी सरकार के कैबिनेट मंत्री आजम खान ने बड़ा बयान दिया है. आजम खान ने कहा है कि अगर यूपी में समाजवादी पार्टी हारती है तो इसके लिए अखिलेश यादव जिम्मेदार नहीं होंगे.

आजम खान यूपी में अखिलेश यादव और यादव परिवार के सबसे करीबी नेताओं में से एक हैं. यादव में जारी कलह के दौरान आजम खान एक अकेले ऐसे नेता थे जो आखिरी समय तक इसी प्रयास में लगे रहे थे कि परिवार में सुलह हो जाए और अखिलेश यादव तथा मुलायम सिंह यादव में कोई दूरी न रहे.