देहरादून की महिला चीता पुलिस इस तरह कर देंगी अपराधियों की छुट्टी

अब खाकी वर्दी में बाइक सवार महिलाएं अपराधियों की छुट्टी करने को उतर चुकी हैं. उत्तराखंड की अस्थायी राजधानी देहरादून में पुलिस ने ‘अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस’ पर महिलाओं को यह विशेष सौगात दी है. शहर में अपराध नियंत्रण और महिलाओं की हिफाजत के लिए महिला चीता पुलिस को उतारा गया है.

देहरादून में महिला चीता पुलिस के लिए 24 नई चीता स्कूटर और बाइक दी गई हैं. चीता पुलिस का जिम्मा 48 महिला पुलिस कर्मियों को मिला है. इससे पहले दस्ते में शामिल महिला कर्मियों को ड्राइविंग, एक्शन रेस्पॉन्डिंग, कानून व्यवस्था, सेल्फ डिफेन्स, पब्लिक रिलेशन की ट्रेनिंग दी गई है. बुधवार को डीजीपी एमए गणपति ने पुलिस लाइन से महिला चीता पुलिस को लांच किया.

इस मौके पर एसएसपी देहरादून स्वीटी अग्रवाल समेत अन्य पुलिस अधिकारी मौजूद रहे. मौके पर एसएसपी ने महिला चीता कर्मियों फायरिंग ट्रेनिंग के लिए मौके पर डीजीपी से अनुमति मांगी गई. हालांकि महिलाओं को असलहा चलाने की ट्रेनिंग दी गई है. इनमें 11 टीम सिटी और एक ग्रामीण एरिया में काम करेंगी. रात को भी महिला चीता पुलिस सड़क पर रहेगी.

मौके पर डीजीपी ने महिलाओं पर बढ़ते अपराधों पर चिंता जताई. उन्होंने ने कल कोटद्वार में छह माह की मासूम के साथ हुई दुष्कर्म की घटना पर दुख जताया. उन्होंने कहा महिला अपराधों को रोकने में महिला चीता पुलिस की भूमिका अहम रहेगी.