भारत के सच्चे सेवक ‘विराट’ का संन्यास, यहां पढ़ें विराट के बारे में 10 प्रमुख बातें…

INS विराट सोमवार को रिटायर हो गया है. विराट 30 साल तक भारतीय नौसेना की शान रहा है. मंगलवार को मुंबई में होने वाले एक समारोह में INS विराट औपचारिक रूप से भारतीय सेना से अलग हो जाएगा. भारत से पहले यह युद्धपोत ब्रिटेन की रॉयल नेवी में 27 साल तक सेवा दे चुका है.

एचएमएस हर्मीस के नाम से पहचाना जाने वाला यह पोत 1959 से रॉयल नेवी की सेवा में था. इसका ध्येय वाक्य ‘जलमेव यस्य, बलमेव तस्यथ’ रहा. जिसका मतलब होता है, जिसका समंदर पर कब्जा है, वही सबसे बलवान है.

INS विराट का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल है. ये दुनिया का एकलौता ऐसा जहाज है जो इतने लंबे समय तक सीमा की सुरक्षा में डंटा रहा. इसे ‘ग्रेट ओल्ड लेडी’ के नाम से भी जाना जाता है. पश्चिमी नौसेना कमान की तरफ से बताया गया था कि यह इतिहास में सबसे ज्यादा सेवा देने वाला पोत है.

विराट के बारे में 10 दिलचस्प बातें इस प्रकार हैं…

  1. 1980 के दशक में भारतीय नौसेना ने इसे साढ़े छह करोड़ डॉलर में खरीदा था और 12 मई 1987 को सेवा में शामिल किया.
  2. INS विराट अपने आखिरी मिशन पर 18 दिसंबर को मुंबई से रवाना होकर गोवा पहुंचा था.
  3. इंडियन नेवी में कमिशन होने के पहले INS विराट ब्रिटेन की रॉयल नेवी में था.
  4. ब्रिटेन की रॉयल नेवी की तरफ से इसने अर्जेंटीना के खिलाफ फॉकलैंड वॉर में हिस्सा लिया था.
  5. 24 हजार टन वजनी विराट 743 फुट लंबा और 160 फुट चौड़ा है.
  6. यह समुद्र की लहरों को 52 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से चिरता रहा.
  7. इस पोत में करीब 1500 नौसैनिक रहते थे और एक बार जब यह समंदर में निकलता था तो साथ में तीन महीने का राशन लेकर निकलता था.
  8. विराट के डेक से कई लड़ाकू विमानों ने 22,622 उड़ान भरी हैं.
  9. इसने करीब 2,252 दिन और करीब 10,94,215 किलोमीटर का सफर समुद्र में तय किया है. यानी इतना वक्त जिससे तकरीबन 27 पार आप दुनिया का चक्कर लगा सकते हैं.
  10. विराट को 1987 में 465 मिलियन अमेरिकी डॉलर में खरीदा गया था. इसे खरीदते वक्त सिर्फ 5 साल तक इसे इस्तेमाल करने की योजना थी, लेकिन 30 साल तक इसने सेवा दी.