नैनीताल : रामनगर में बेखौफ खनन माफिया ने किया अधिकारियों पर हमला

नैनीताल जिले के रामनगर में खनन माफिया के हौसले इतने बुलंद हैं कि वे विभागीय अधिकारियों पर भी हमला करने से नहीं चूक रहे हैं. विभागीय अधिकारियों को निशाना बनाने की यह कोई पहली घटना नहीं है. इससे पहले भी इस तरह की कई घटनाएं हो चुकी हैं. लेकिन अब विभागीय अधिकारियों पर हमले की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं.

ताजा मामला वन विभाग की एंटी माइनिंग टीम पर हमले का सामने आया है. बताया जा रहा है कि एंटी माइनिंग टीम ने कोसी और दाबका नदी में छापेमारी अभियान चलाया है. कोसी नदी के खड़ंजा क्षेत्र में जब एंटी माइनिंग टीम पहुंची तो नदी में अवैध खनन कर रहे एक ट्रैक्टर ट्रॉली वाले को एंटी माइनिंग टीम ने भागते देखा, जिसका पीछा करने पर ट्रैक्टर ड्राइवर ने रेंजर विजेंद्र अधिकारी की गाड़ी में टक्कर मारने की कोशिश की.

रेंजर ने किसी तरह से अपना वाहन बचा लिया. उसके बाद एसडीओ ने ट्रैक्टर का पीछा किया. ट्रैक्टर चालक ने एसडीओ की गाड़ी को भी निशाना बनाते हुए टक्कर मारने की कोशिश की. बावजूद इसके एसडीओ बलवंत शाही भी इस हमले में बाल-बाल बचे.

आखिरकार हमलावर ट्रैक्टर चालक को घेरा डालकर पकड़ लिया गया. वन विभाग ने रामनगर कोतवाली में नामजद शिकायत देते हुए पकड़े गए ट्रैक्टर चालक को पुलिस के हवाले कर दिया. चलाए गए छापेमारी अभियान में 8 वाहन पकड़े गए हैं, जिसमें 4 अवैध खनन से भरे वाहन के अलावा 4 मोटरसाइकिलें भी पकड़ी गई हैं.

बताया जा रहा है कि इन मोटरसाइकिलों का प्रयोग खनन माफिया फिल्डिंग के लिहाज़ से कर रहे थे. ताकि विभाग द्वारा अवैध खनन रोकने के लिए की जाने वाली कार्रवाई की सूचना का पता खनन माफिया को चल सके.