अब मगरमच्छ, गरुड़ व कछुए भी होंगे हाई-टेक

देहरादून जू मालसी में केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण की ओर से देश के 35 चिड़ि‍याघरों द्वाराआयोजित चार दिवसीय वार्षिक बैठक संपन्न हो गई. अंतिम दिन(आज) वन्यजीव विशेषज्ञों ने जू में एक मगरमच्छ, गरुड़ व कछुए की टैगिंग/मार्किंग करते हुए उन पर माइक्रो चिप लगाई. इस चिप में संबंधित जानवरों के जन्म, वजन आदि से लेकर पूरी जानकारी समाहित है.

आज अंतिम की दिन बैठक में वन्यजीव विशेषज्ञ डॉ. गौरी ने सरीसृप वर्ग के प्राणियों के बारे में विस्तृत जानकारी भी दी.साथ ही बताया कि बंधक वन्य जीवों की किस तरह पहचान की जा सकती है. प्रभागीय वनाधिकारी पीके पात्रो ने बताया कि देहरादून जू के अलावा चिड़ि‍यापुर स्थित रेस्क्यू सेंटर में एक गुलदार पर यह चिप लगाई गई. साथ ही एक बंदर की नसबंदी की गई और एक हाथी को ट्रेंकुलाइज भी किया गया.

यह कार्य डॉ. अदिति, डॉ. गौरी, डॉ. पराग निगम, डॉ. पीके मलिक आदि की देखरेख में किया गया. पात्रो के मुताबिक पूरे कार्यक्रम की वीडियो रिकॉर्डिंग की जाएगी और इसे जानकारी के लिए सभी चिड़ि‍याघरों को भेजा जाएगा.

इस अवसर पर प्रमुख वन संरक्षक जयराज, गंभीर सिंह, मुख्य वन संरक्षक भुवन चंद्र, शिवालिक वृत्त की वन संरक्षक मीनाक्षी जोशी, प्रभागीय वनाधिकारी पीके पात्रो, उप प्रभागीय वनाधिकारी गुलबीर सिंह आदि उपस्थित रहे