पहले की मैच शतक जड़ने वाले धुरंधर क्रिकेटर स्मिथ ने लिया अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्‍यास

वेस्टइंडीज के हरफनमौला खिलाड़ी ड्वेन स्मिथ ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने का फैसला किया है. इस समय वह पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) में इस्लामाबाद यूनाइटेड के लिए खेल रहे हैं. स्मिथ ने कराची किंग्स के खिलाफ होने वाले दूसरे क्वालीफाइंग फाइनल से पहले इस बात की पुष्टि की.

स्मिथ विश्व कप-2015 में आखिरी बार इंडीज टीम में खेले थे. इस विश्व कप में नेपियर में संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के खिलाफ खेला गया मैच उनके अंतरराष्ट्रीय करियर का आखिरी मैच साबित हुआ. स्मिथ ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कदम 2003-04 में केपटाउन में नए साल पर हुए टेस्ट मैच से रखा था.

उन्होंने अपने पहले मैच में ही 105 रनों की पारी खेली थी. इस दौरान उन्‍होंने 105 गेंदों का ही सामना किया था और 15 चौके, दो छक्‍के लगाए थे. दुर्भाग्‍य से पहले टेस्‍ट में लगाया गया यह शतक ही स्मिथ का इकलौता शतक साबित हुआ.

स्मिथ ने वेस्‍टइंडीज के लिए कुल 10 टेस्ट मैच खेले और 14 पारियों में 24.61 की औसत से 320 रन बनाए. टेस्ट में उनके नाम एक भी अर्धशतक नहीं है. टेस्ट में उन्होंने सात विकेट लिए हैं. टेस्‍ट के मुकाबले स्मिथ वनडे मैचों में ज्‍यादा सफल रहे. उन्‍होंने 105 वनडे मैचों में अपने देश का प्रतिनिधित्व किया है और 18.57 की औसत से 1,560 रन बनाए, जिसमें आठ अर्धशतक शामिल हैं. उनका सर्वोच्च स्कोर 97 है.

वनडे में उन्होंने 61 विकेट लिए हैं. टी-20 में वह विंडीज के लिए 33 बार मैदान पर उतरे हैं और 18.18 की औसत से तीन अर्धशतकों के साथ 582 रन बनाए हैं वह इस प्रारूप में सात विकेट लेने में सफल रहे हैं. स्मिथ सीमित ओवरों के मैचों में टेस्ट से ज्यादा सफल रहे हैं.

उन्होंने निचले क्रम के बल्लेबाज के तौर पर शुरुआत की थी और फिर सलामी बल्लेबाजी की जिम्मेदारी भी संभाली. वनडे क्रिकेट में आठ अर्धशतकों में से छह उन्होंने शीर्ष तीन क्रम पर बल्लेबाजी करते हुए बनाए. स्मिथ बीते कुछ सालों से टी-20 सर्किट में ज्यादा सक्रिय हैं और कई देशों की घरेलू टी-20 लीग में खेल रहे हैं.