तारक मेहता का लंबी बीमारी के बाद निधन | प्रधानमंत्री मोदी समेत कई हस्तियों ने जताया दु:ख

फोटो साभार - इंडियन एक्सप्रेस

लोकप्रिय गुजराती नाटककार तारक मेहता का लंबी बीमारी के बाद बुधवार सुबह निधन हो गया. वह 88 वर्ष के थे. लेखक के रिश्तेदार डॉक्टर अतुल भट्ट ने कहा, ‘वह अब नहीं रहे.’ बता दें कि तारक मेहता का उनके गुजराती मैग्‍जीन में छपने वाले प्रसिद्ध कॉलम ‘दुनिया ने औंधों चश्‍मा’ के लिए जाना जाता था. उनके इसी कॉलम और उनकी किताब पर प्रसिद्ध टीवी सीरियल ‘ताकर मेहता का उल्‍टा चश्‍मा’ बनाया गया है. उन्होंने छह लोकप्रिय गुजराती नाटक भी लिखे.

87 वर्ष के तारक मेहता पिछले तीन-चार महीनों से बीमार चल रहे थे. 26 दिसंबर, 1929 को जन्मे तारक मेहता को वर्ष 2015 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था. तारक मेहता गुजराती रंगमंच का एक बड़ा नाम थे. बता दें कि तारक मेहता की 80 किताबें बाजार में आ चुकी हैं. तारक मेहता के निधन में कई बड़ी हस्तियों ने इस पर दुख जताया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तारक मेहता के निधन पर दुख जताते हुए ट्वीट किया, ‘सुप्रसिद्ध नाटककार और हास्‍य लेखक तारक मेहता जी को श्रद्धांजलि. उन्‍होंने जीवन भर व्‍यंग्‍य और कलम का साथ नहीं छोड़ा’.

अपने एक और ट्वीट में उन्‍होंने लिखा, ‘मुझे तारक मेहता जी से कई बार मिलने का सौभागय मिला. जब उन्‍हें पद्मश्री से सम्‍मानित किया गया, तब भी उनसे मिलने का अवसर मिला.’ उन्‍होंने एक अन्‍य ट्वीट में लिखा, ‘तारक मेहता जी के लेखन में भारत की विविधता में एकता की झलक दिखती है. टप्‍पू समेत कई किरदार लोगों के दिलों में बस गये.’

प्रधानमंत्री के अलावा गुजरात के मुख्‍यमंत्री विजय रूपानी और बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह ने भी तारक मेहता को अपनी श्रद्धांजलि दी है.