किसानों को मिलेगा 3 गुना अधिक उत्पादन । वैज्ञानिकों ने खोजे नीम व यूकेलिप्टस के नए क्लोन

वन अनुसंधान संस्थान (एफआरआइ) देहरादून के वैज्ञानिकों ने करीब 12 साल के शोध के बाद गोरा नीम (मीलिया डूबिया) की 10 और यूकेलिप्टस की तीन नई प्रजातियां खोजी हैं। विशेषकर गोरा नीम की ये प्रजातियां उन किसानों के लिए बेहतर विकल्प हैं, जो पापुलर की खेती करते आए हैं। इससे पापुलर के मुकाबले प्रति हेक्टेयर दो से तीन गुना अधिक उत्पादन मिल सकेगा।

एफआरआइ के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. अशोक कुमार और डॉ.केपी सिंह की अगुआई में वैज्ञानिकों की टीम पिछले 12 साल से गोरा नीम जिसे ड्रीक, मालाबार नीम आदि नामों से जाना जाता है, पर शोध जुटी हुई थी। साथ ही यूकेलिप्टस पर भी शोध चल रहा था।

डॉ. अशोक कुमार के अनुसार इस मुहिम के तहत गोरा नीम के 10 और यूकेलिप्टस के तीन क्लोन विकसित कर हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में इनका रोपण किया गया। नतीजे बेहद उत्साहजनक आए।

डॉ. कुमार ने बताया कि गोरा नीम की सभी 10 प्रजातियों से प्रतिवर्ष प्रति हेक्टेयर औसतन 34.57 घन मीटर उत्पादन मिला। इसी प्रकार यूकेलिप्टस की प्रजातियों से औसत उत्पादकता प्रवितर्ष 5.7 घन मीटर प्रति हेक्टेयर की तुलना में 19.44 घन मीटर प्रति हेक्टेयर मिली। उन्होंने बताया कि गोरा नीम की कुछ प्रजातियों की उत्पादकता तो 55 घन मीटर प्रति हेक्टेयर तक रही।

भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद (आइसीएफआरई) की महानिदेशक वन डॉ.एसएस नेगी अध्यक्षता में हुई बैठक में एफआरआइ की खोज इन 13 प्रजातियों को स्वीकृति दी गई। एफआरआइ के वैज्ञानिकों की इस खोज को वानिकी से जुड़े किसानों के लिए बेहद मुफीद माना जा रहा है। इनसे अधिक उत्पादन मिलने के साथ ही प्लाइवुड उद्योग के अलावा पांच साल से अधिक की अवधि में अच्छी इमारती लकड़ी भी मिल सकेगी।