आज बैंकों का काम रहेगा ठप्प । यूनियनों ने सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ खोला मोर्चा

अपनी मांगों को लेकर यूनाईटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस से जुड़े बैंक कर्मचारी मंगलवार को हड़ताल पर रहेंगे. सरकार की जनविरोधी नीतियों, ट्रेड यूनियनों के अधिकारी समाप्त करने नोटबंदी के दौरान बैंक कर्मियों को उचित मुआवजा न दिए जाने आदि के खिलाफ बैंक कर्मचारी मुखर हैं. विभिन्न मांगों और समस्याओं को लेकर हड़ताल की जा रही है.

एसबीआई अधिकारी एसोसिएशन के उपमहासचिव हरिओम रेखी और यूनियंस के संयोजक जगमोहन मेहंदीरत्ता ने कहा कि केंद्र सरकार ट्रेड यूनियन के अधिकार करने और बैंकों का निजीकरण पर तुली हुई है. ऋण वसूली के लिए प्रभावी कदम नहीं उठाए जा रहे हैं.

बैंक कर्मचारियों ने बढ़ते एनपीए से निपटने के लिए रिकवरी प्रक्रिया तेज गति में अपनाने की मांग की है। रोष जताते हुए कहा कि बैंक कर्मियों की मांगों को प्रति उदासीनता अपनाई हुई है। इसके कारण ही देशभर के 10 लाख से अधिक कर्मचारी एक दिवसीय हड़ताल पर जाने को मजबूर हैं। इसमें बैंकिंग से जुड़ी सात मुख्य यूनियन शामिल हैं.