दुनिया के पहले टेबल टेनिस रोबोट कोच का नाम ‘गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड’ में शामिल

वर्तमान समय में खेल क्षेत्र में ऐसे कई रोबोट हैं, जिसने खिलाड़ियों को सीखने में मदद मिलती है. बेस बॉल, फुटबॉल और क्रिकेट में इनके सहारे खिलाड़ियों को अच्छी ट्रेनिंग दी जाती है। इतना ही नहीं, खेल से संबंधित खिलाड़ियों को कई बार बारीकियां भी सीखने को मिलती है. लेकिन जापान का एक रोबोट इन सबसे आगे निकल गया है। टेबल टेनिस में खिलाड़ियों को बेहद ही क्विक स्मैस की जरूरत होती है और इसके लिए यह रोबोट मददगार होगा.

टेबल टेनिस सिखाने वाला ‘फॉरफियुअस’ नाम का दुनिया का यह पहला रोबोट है. जापानी कंपनी के मुताबिक नए टेक्नोलॉजी में कोई भी अन्य खेल का रोबोट बेहतर नहीं होगा. इस रोबोट का नाम गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल कर लिया गया है. आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से फॉरफियुअस रोबोट लोगों बड़ी आसानी से टेबल टेनिस सिखा रहा है.

रोबोट का पूरा नाम ‘फ्यूचर ऑमरोन रोबोटिक्स टेक्नोलॉजी फॉर एक्सप्लोरिंग पॉजिबिलिटी ऑफ हार्मोनाइज्ड ऑटोमेशन विद सिनिक थियोरेटिक्स’ (फॉरफियुअस) है. इस रोबोट को जापानी कंपनी ऑमरोन कॉपरेशन ने बनाया है. कंपनी के वैज्ञानिक ताकू ओया ने 2013 में इस रोबोट को तैयार किया था.

रोबोट में खास क्या है ?

– इसमें तीन कैमरे लगे हैं।
– यह टेबल टेनिस की गेंद को त्रि-आयामी तस्वीरों के रूप में देखते हैं।
– साथ ही खेलने वाले व्यक्ति की गतिविधियों या शॉट पर भी पैनी नजर रखता है।
– कंप्यूटर की मदद से रोबोट गेंद की गति और उसके गिरने का स्थान का सटीक आंकलन करता है।
– इससे फॉरफ्यूरस को रैकेट से गेंद मारने का सटीक निर्देश मिलता है।
– यह भुजा या कंप्यूटर ब्रेन से निर्देश मिलने पर तेजी से प्रतिक्रिया देती है। इसी में लगे रैकेट से रोबोट गेंद मारता है।
– टेबल के बीच में लगे इस जाली पर ऑर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के जरिए रोबोट के विचार और खेल से जुड़ी अन्य जानकारी फ्लैश होती रहती है।
– ऑर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के जरिए व्यक्ति की खेल रणनीति और गेंद का रास्ता पहचानता है।