क्या इस बार इतिहास रचेगा ये ‘स्लमडॉग मिलेनियर’?

फिल्म ‘स्लमडॉग मिलेनियर’ से रातोंरात स्टार बने देव पटेल क्या इस बार इतिहास रच देंगें. इस बार का ऑस्‍कर पुरस्‍कार भारत के लिए कई मायनों में खास साबित होने जा रहा है. ऐसा इसलिए क्‍योंकि भारतीय एक्‍टर देव पटेल को ‘लायन’ फिल्‍म में अभिनय के लिए सर्वश्रेष्‍ठ सहायक अभिनेता के लिए नामित किया गया है.

यदि वह इस अवॉर्ड को हासिल करने में कामयाब हो जाते हैं तो ऑस्‍कर जीतने वाले पूरी तरह से पहले भारतीय एक्‍टर होंगे. हालांकि इससे पहले म्‍यूजिक डायरेक्‍टर एआर रहमान सहित कई कलाकारों को कई विभिन्‍न श्रेणियों में ऑस्‍कर मिल चुका है, लेकिन एक्टिंग के क्षेत्र में किसी भारतीय एक्‍टर को ऑस्‍कर नहीं मिला है.

हालांकि भारत से जुड़े ब्रिटिश एक्‍टर बेन किंग्‍सले को 1983 में ‘गांधी’ फिल्‍म के लिए सर्वश्रेष्‍ठ अभिनेता का ऑस्‍कर पुरस्‍कार मिल चुका है. बेन के पिता गुजरात मूल के थे. इस लिहाज से बेन के तार भारत से जुड़े हैं.

उल्‍लेखनीय है कि बेस्ट सपोर्टिंग रोल की दौड़ में फिल्म ‘लायन’ के लिए देव पटेल की टक्कर महेर्शाला अली (मूनलाइट), जेफ ब्रिजेस (हेल और हाई वाटर) और लुकास हेजेज (मेनचेस्टर बाई थे सी) के साथ है. हालांकि सबसे कड़ा मुकाबला देव पटेल और महेर्शाला अली के बीच में ही माना जा रहा है. यदि अली यह अवॉर्ड जीतते हैं तो इसे पाने वाले पहले मुस्लिम एक्‍टर होंगे.

हाल में हुए ब्रिटिश फिल्म अवार्ड्स में भारत के लिए गर्व का पल रहा जब देव पटेल को फिल्म लायन के लिए बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का अवॉर्ड मिला. गार्थ डेविस के निर्देशन में बानी ‘लायन’ में देव पटेल एक ऐसे भारतीय लड़के का किरदार कर रहे हैं, जिसको बचपन में एक ऑस्‍ट्रेलियाई परिवार अपना लेता है, लेकिन जब वह बड़ा होता है तो गूगल के सहारे अपने जैविक माता-पिता को खोज लेता है.

माना जा रहा है कि यह फिल्‍म एक सच्‍ची घटना पर आधारित है. ‘लायन’ को ऑस्कर समारोह में 5 श्रेणियों में नामंकित किया गया है जिनमें बेस्ट फिल्म, बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर, बेस्ट म्यूजिक, सिनेमेटोग्राफी जैसी श्रेणियां शामिल हैं. हॉलीवुड में 26 तारीख की रात ऑस्‍कर पुरस्‍कारों को दिया जाएगा.