सेना भर्ती परीक्षा पेपर लीक मामले में महाराष्ट्र-गोवा से 18 गिरफ्तार, परीक्षा रद्द

महाराष्ट्र में मुंबई से सटे ठाणे की क्राइम ब्रांच ने सेना की भर्ती के परीक्षा पेपर लीक करने के मामले में 18 लोगों को गिरफ्तार किया है. ठाणे क्राइम ब्रांच ने एक गुप्त सूचना पर कार्रवाई करते हुए इस रैकेट का पर्दाफाश किया.

रविवार सुबह वेस्टर्न जोन में भारतीय सेना की भर्ती की परीक्षा होने वाली थी, लेकिन पेपर लीक होने की वजह से परीक्षा रद्द कर दी गई. शुक्रवार को ठाणे क्राइम ब्रांच को पेपर लीक होने की सूचना मिली थी. शनिवार रात को क्राइम ब्रांच की 80 लोगों की टीम ने पुणे, नागपुर और गोवा में छापे मारकर 18 एजेंटों को हिरासत में ले लिया.

मामले में 350 परीक्षार्थियों को भी हिरासत में लिया गया, लेकिन पूछताछ के बाद उन्हें जाने दिया गया. ठाणे पुलिस के ज्वाइंट कमिशनर आशुतोष धुम्बरे ने कहा, ‘हमें सूचना मिली कि ठाणे के कुछ कैंडिडेट्स को फेक डोमिसाइल सर्टिफिकेट और परीक्षा पेपर दिए जाने वाले हैं. हर पेपर के लिए 4-5 लाख रुपये लिए गए हैं. हमने टिप ऑफ पर काम करते हुए 18 एजेंट्स को पकड़ा.’

18 आरोपियों में से 2 सेना और पैरामिलिटरी फोर्स से जुड़े हैं. एक आरोपी आर्मी से रिटायर्ड है. ये एजेंट ज्यादातर कोचिंग क्लास में आने वाले उम्मीदवारों को अपना शिकार बनाते थे. ऐसे में कोचिंग संस्थानों की भूमिका की भी जांच की जा रही है. ये परीक्षा पेपर व्हाट्सऐप के जरिए लीक किए जाते थे.

इस रैकेट में और कितने लोग शामिल हैं और ये आरोपी इससे पहले भी इस तरह की साज़िश में शामिल हैं या नहीं इसकी जांच की जा रही है. ठाणे क्राइम ब्रांच लगातार भारतीय सेना से संपर्क बनाए हुए है. इस मामले में इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट और प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है.