भूकंप आने से पहले ही बज उठेगा साइरन, बच सकेगी लोगों की जान

आईआईटी रुड़की ने एक क्षेत्रीय पूर्व चेतावनी तंत्र विकसित किया है, जो कि उत्तराखंड में भूकंप आने की स्थिति में साइरन से लोगों को अलर्ट करेगा.

मुख्य सचिव एस. रमास्वामी की अध्यक्षता में आपदा प्रबंधन पर सलाहकार समूह कमेटी की बैठक में प्रस्तुति देते हुए आईआईटी रुड़की के भूंकपीय वैज्ञानिक अशोक कुमार ने कहा कि राज्य में भूकंप संवेदनशील क्षेत्रों में सेंसर से जरूरी संकेत मिलने के बाद साइरन बजने लगेगा और लोग अलर्ट होंगे. इससे भूकंप की स्थिति में सुरक्षा के लिए पर्याप्त मौका मिलेगा.

कुमार ने बैठक में कहा उत्तराखंड में लगाए जाने वाले कुल 1,100 सेंसरों में भूकंप संवेदनशील क्षेत्रों में 84 सेंसर लगाए जा चुके हैं.

एक आधिकारिक विज्ञप्ति में उनके हवाले से कहा गया है कि सेंसर लगाए जाने का काम पूरा होने के बाद संवेदनशील क्षेत्रों में साइरन लगाए जाएंगे.