INDvsAUS Test : पुणे में रुका टीम इंडिया का विजय रथ, तीसरे ही दिन 333 रन से करारी हार

घरेलू मैदानों पर पिछले 20 टेस्ट मैच और विराट कोहली की कप्तानी में लगातार 19 टेस्ट मैचों से अजेय टीम इंडिया को आखिरकार हार का सामना करना पड़ ही गया. कमतर आंकी जा रही ऑस्ट्रेलियाई टीम ने कोहली की विराट टीम को 13 साल बाद उसके ही घर में हरा दिया. इससे पहले वह इंडिया से अक्टूबर, 2004 में जीती थी.

4 टेस्ट मैचों की वर्तमान सीरीज के तहत पुणे में खेले गए पहले मैच में उसने टीम इंडिया को शनिवार को 333 रन से हराया और उसके अजेय रहने के अभियान पर विराम लगा दिया. तीसरे दिन 441 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए टीम इंडिया चायकाल के बाद 107 रन पर ही सिमट गई. पहली पारी में भी वह महज 105 रन ही बना पाई थी.

ऑस्ट्रेलिया ने भारत को उसके मजबूत पक्ष स्पिन में ही मात दी. मतलब कहा जा सकता है कि टीम इंडिया अपने ही जाल में फंस गई. ऑस्ट्रेलियाई स्पिनर स्टीव कीफी (Steve O’Keefe) ने चमत्कारिक गेंदबाजी करते हुए मैच में कुल 12 विकेट चटकाए और टीम को सीरीज में 1-0 की बढ़त दिला दी. उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया.

ऑस्ट्रेलिया के कप्तान स्टीव स्मिथ ने जहां दूसरी पारी में शतक (109) लगाया, वहीं टीम इंडिया की ओर से दूसरी पारी में सर्वोच्च स्कोर 31 रन (चेतेश्वर पुजारा), तो पहली पारी में 64 रन (लोकेश राहुल) रहा. पहली पारी में भारत के 8, तो दूसरी पारी में 7 बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू सके.

खुद कप्तान विराट कोहली का स्कोर 0 और 13 रन रहा. गेंदबाजी में भी भारतीय टीम पीछे रही. स्टार ऑफ स्पिनर आर. अश्विन ने 7 विकेट लिए, तो रवींद्र जडेजा ने 5 विकेट लिए, जबकि ऑस्ट्रेलिया के स्टीव ओकीफी ने कुल 12, तो नैथन लियोन ने कुल 5 विकेट झटके.

धुरंधर बल्लेबाजों की घटिया बल्लेबाजी
टीम इंडिया की मांग के मुताबिक स्पिन विकेट बनाया गया. पुणे का यह विकेट ऐसा था कि गेंद पहले दिन से ही कुछ-कुछ घूमने लगी थी. फिर भी ऑस्ट्रेलिया ने सम्मानजनक स्कोर बना लिया, लेकिन टीम इंडिया के बल्लेबाजों ने नवोदित स्पिनर स्टीव ओकीफी के सामने हथियार डाल दिए और अपने ही जाल में फंस गए.

तीसरे दिन लंच के बाद 441 रन के विशाल लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया को पारी के पांचवें ओवर में ही लग गया, जब ओपनर मुरली विजय (2) पहली पारी की ही तरह जल्दी लौट गए. उनको पहली पारी में 6 विकेट लेने वाले स्पिनर स्टीव ओकीफी ने पगबाधा आउट किया. विजय ने रिव्यू लिया, लेकिन उसमें भी नहीं बच पाए. इसके बाद लोकेश राहुल भी 10 रन बनाकर नैथन लियोन का शिकार हो गए.

कीफी ने टीम इंडिया को विराट कोहली के रूप में सबसे बड़ा झटका दिया. वह भी उन्हें क्लीन बोल्ड कर दिया. इसके बाद पुजारा ने रहाणे के साथ 30 रन जोड़े, लेकिन रहाणे साथ नहीं दे पाए और उनको भी कीफी ने 18 रन पर कैच करा दिया. टीम इंडिया ने 89 रन पर पांचवां विकेट खोया. इसके बाद तो तू चल मैं आया वाली स्थिति बन गई और 18 रन के अंतराल पर ही 5 विकेट गिर गए और टीम 107 रन पर सिमट गई.