दो साल बाद शून्य के स्कोर पर आउट हुए विराट, ये है उनका अनोखा रिकॉर्ड

टीम इंडिया के कप्‍तान विराट कोहली के नाम के आगे 0 का स्‍कोर आमतौर पर कम ही दिखाई देता है. खास तौर पर इस दौर में वे जिस तरह के फॉर्म से गुजर रहे हैं उसे देखते हुए तो शायद बिल्‍कुल नहीं. कोहली इस समय करियर के सर्वश्रेष्‍ठ बल्‍लेबाजी फॉर्म से गुजर रहे हैं और उनका रूप लगातार विराट होता जा रहा है.

ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ पुणे टेस्‍ट में जब विराट बिना कोई रन बनाए आउट हुए तो स्‍टेडियम में मौजूद दर्शकों के चेहरे पर निराशा साफ देखी जा सकती थी. टीवी पर इस मैच का सीधा प्रसारण देख रहे उनके प्रशंसक और आलोचकों तक को उनके शून्य पर आउट होने से निराशा हुई होगी.

प्रशंसकों को उम्‍मीद थी कि ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ भी वे बल्‍ले से अपना सुनहरा दौर जारी रखेंगे, लेकिन कम से कम पुणे टेस्‍ट की पहली पारी में उनकी यह इच्‍छा पूरी नहीं हुई. बाएं हाथ के तेज गेंदबाज मिचेल स्‍टार्क ने जब विराट को 0 के स्‍कोर पर आउट किया तो ऑस्‍ट्रेलियाई टीम के खिलाड़ि‍यों की खुशी का ठिकाना नहीं था. आखिर क्‍यों न हो, विराट को वह टीम इंडिया का सबसे खतरनाक बल्‍लेबाज जो मान रहे हैं.

चेतेश्‍वर पुजारा के आउट होने के बाद बैटिंग के लिए उतरे विराट केवल दो गेंदों का सामना कर पाए. 140 किमी प्रति घंटा से अधिक की रफ्तार से गेंद करने वाले स्‍टार्क की जिस गेंद पर कोहली आउट हुए वह ऑफ स्‍टंप की लाइन से कुछ बाहर पिच हुई और टीम इंडिया के कप्‍तान के बल्‍ले का किनार लेकर पहली स्लिप में हेंड्सकोंब के हाथों में कैद समा गई.

टेस्‍ट क्रिकेट के लिहाज से विराट दो साल से ज्यादा समय बाद शून्य के स्‍कोर पर आउट हुए हैं. इससे पहले वे 7 अगस्‍त 2014 को ओल्‍डट्रेफर्ड, मैनचेस्‍टर टेस्‍ट की पहली पारी में बिना कोई रन बनाए आउट हुए थे. इंग्‍लैंड के खिलाफ इस टेस्‍ट में टीम इंडिया के तीन बल्‍लेबाज 0 के स्‍कोर पर आउट हुए थे जिसमें कोहली भी थे.

कोहली को इंग्‍लैंड के तेज गेंदबाज एंडरसन की गेंद पर एलिस्‍टर कुक ने कैच किया था और टीम इंडिया को इस मैच में पारी के अंतर से हार का सामना करना पड़ा था. समग्र रूप से देखें तो 104 अंतरराष्ट्रीय मैचों (टेस्‍ट, वनडे और टी20) के बाद विराट शून्य के स्‍कोर पर आउट हुए हैं, आखिरी बार वे वर्ष 2014 में कार्डिफ वनडे में बिना कोई रन बनाए आउट हुए थे.