नैनीताल में भूकंप से निपटने को हुई माॅकड्रिल

जिले में भूकम्प से निपटने की तैयारियों केा लेकर जिला मुख्यालय नैनीताल में माॅकड्रिल (पूर्वाभ्यास) सफलता से संपन्न हुआ। जिले के अधिकारियों के साथ ही सेना, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, एनसीसी, एनएसएस व स्थानीय स्कूलों के छात्र-छात्राओं के माध्यम से माॅकड्रिल की गयी।

जिला आपदा कन्ट्रोल रूम से प्रातः 10 बजकर 10 मिनट पर जिले में भूकपं के झटकों के चलते सायरन बजाकर लोगों को सूचना  दी गयी। साथ ही जिलाधिकारी ने मंदिर, मस्जिद, गुरूद्वारे से भी भूकम्प की सूचना जनता को प्रसारित करने के निर्देश दिये गये। भूकम्प की तीव्रता 7.5 थी जिससे जनपद के पांच स्थानों पर भारी क्षति की सूचना मिली जिसमें कुमायूं विश्वविद्यालय का प्रशासनिक भवन ध्वस्त, ग्राम भूमियाधार, अंडा मार्केट मल्लीताल, जीजीआईसी व रैमजे चिकित्सालय क्षेत्र में भारी नुक्सान होने पर भूकपं प्रभावित क्षेत्रों में पुलिस व स्वास्थ्य विभाग के द्वारा बचाव की टीमें भेजी गयी, जिसमें एसडीआरएफ, आईटीवीपी, पुलिस, वायरलैस, आर्मी, एनडीआरएफ, समेत कई बचाव की टीमें कुविवि के प्रशासनिक भवन परिसर, भुमियाधार, अंडा मार्केट, जीजीआईसी, समेत रैमजे अस्पताल भेजा गया।

इस दौरान भूकंप प्रभावित क्षेत्रों में रैस्क्यू टीमों के द्वारा भूकम्प में फसे हुए लोगों के लिये बचाव कार्य चलाया गया। जिसमें कुविवि परिसर में लोगों को मामूली व गम्भीर चोटें आयी हैं। इसके अलावा कई स्थानों में भूकम्प के झटकों से लोग घायल हुए थे जिन्हे एम्बुलेंस द्वारा डीएसए मैदान में प्राथमिक उपचार के लिये लाया गया। जहां पर चिकित्साकों की टीम द्वारा उनका उपचार किया गया। गंभीर रूप से घायलों को जिला चिकित्सालय बीडी पांडे भेजा गया, जहां उनका उपचार किया जा रहा है।

इधर रामजै  रोड के समीप बिजली के पाॅल गिरने से क्षेत्र में विद्युत आपूर्ति ठप हो गयी। मौके पर पहुचे विद्युत विभाग कर्मियों ने रोड पर पडे़ बिजली के तारों को हटाया। इसके अलावा तल्लीताल जीआईसी स्कूल के समीप भूस्खलन होने की भी सुचना मिली, मौके पर बचाव टीम को रवाना किया गया। इसके अलावा नैनीताल से लगभग 8 किमी दूर भुमियाधार में भी भूकपं के झटके आने से यहां पर भी कई लोग गम्भीर रूप से घायल हुये जिन्हें उपचार हेतु चिकित्सालय भेजा गया। मल्लीताल अंडा मार्केट में भी कई लोग घायल हुए हैं जिनकी मदद के लिये उप जिलाधिकारी के नेतृत्व में पुलिस, आरडीएफ व अन्य बचाव दल मौके पर पहुॅचकर घायलों को सुरक्षित निकालने में सफल रहे।

सभी घायलों को उपचार के लिये डीएसए मैदान में स्वास्थ्य केंद्र में लाया गया। इसके अलावा रोप वे में फसे पर्यटकों को भी सुरक्षित निकाला गया। डीएसए से सटे कैपिटाॅल सिनेमा हाॅल में भी आग लगने की सूचना मिली है। सूचना मिलते ही बचाव टीम के साथ ही अग्निशमन वाहन को मौके पर भेज दिया गया। इस तरह नैनीझील में युवक के डूबने की खबर मिलते ही स्वयं जिलाधिकारी व एसएसपी एसडीआरएफ टीम के साथ नाव में सवार होकर बचाने में सफल हुये। इस भूकम्प से जनपद में 30 की जान गयी 119 गम्भीर रूप से घायल हुये, 551 हल्की चोंटें आयी व 1307 लोगों को विभिन्न टीमों द्वारा रैस्क्यू किया गया। अनुमानन प्राइवेट सम्मपति को 10 करोड़ व सरकारी सम्पत्ति को 50 करोड़ का नुक्सान आंका गया। माॅक ड्रिल के अवसर पर मैट्रोपोल में भी राहत शिविर लगाया गया जहां पर भूकम्प प्रभावितों हेतु टैन्ट लगाकर खाने-पीने के साथ ही रहने की व्यवस्था की गयी।