ATM से निकले ‘चूरन लेबल’ लिखे 2000 के फर्जी नोट, केजरीवाल का पीएम मोदी पर हमला

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के संगम विहार इलाके में स्थित भारतीय स्टेट बैंक के एक एटीएम से 2 हजार रुपये के नकली नोट निकलने का एक मामला सामने आया है. रोहित कुमार नामक एक शख्स ने 6 फरवरी को इस एटीएम से 8 हजार रुपये की निकासी की. उनके हाथ 2-2 हजार रुपये के 4 नोट आए, लेकिन इन नोटों को देखने पर वह हैरान रह गए.

फर्जी नोट पर आधिकारिक निशान की जगह एक छोटे बॉक्स में ‘चूरन लेबल’ लिखा हुआ है, जबकि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की जगह इंटरटेनमेंट बैंक ऑफ इंडिया दर्ज है. साथ ही इसमें धारक को 2000 रुपये की जगह 2000 ‘कूपन’ की बात लिखी हुई है. केंद्रीय सरकार की जगह बच्चों की सरकार (चिल्ड्रेन्स गर्वनमेंट) का जिक्र है. नोट पर आरबीआई की मुहर की जगह ‘PK’ दर्ज है.

एटीएम के सिक्योरिटी गार्ड ने एक टीवी चैनल से बात करते हुए कहा, रोहित कुमार पहले तो नोटों को निहारते रहे, फिर उन्होंने पुलिस को सूचना दी. गार्ड ने तुरंत अपने सीनियर को सूचना दी और उन्हें बताया कि एटीएम में नकली नोट हैं. इसके बाद तुरंत एटीएम को बंद कर दिया गया. यह एटीएम तब से लेकर अभी तक आउट ऑफ सर्विस है. जब एक पुलिसकर्मी मामले की तहकीकात करने पहुंचा तो उसे भी एक फर्जी नोट मिला. इस मामले में धोखाधड़ी का केस दर्ज किया गया है.

एटीएम में जिस शख्स ने आखिरी बार पैसे डाले थे, उसकी पहचान सीसीटीवी से हो गई है. एक अधिकारी ने बताया कि इस एक घटना के अलावा किसी अन्य ने शिकायत दर्ज नहीं कराई है. संभवत: कुछ ही नोट बदले गए थे. हमें यह पता लगाना है कि किस वक्त असली नोटों की जगह इन नकली नोटों को बदला गया. इस घटना को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना की. उन्होंने ट्वीट किया, ‘जब एक प्रधानमंत्री सही ढंग से नोटों की छपाई नहीं कर सकता, तो फिर वह देश कैसे चला सकता है? उन्होंने पूरे देश को हंसी का पात्र बनाकर रख दिया है.’

हालांकि एसबीआई ने एक बयान जारी कर कहा है कि उसके एटीएम से फर्जी नोट निकलने की संभावना नहीं के बराबर है. एसबीआई के अपने सभी करेंसी चेस्ट में नोटों की क्वालिटी की निगरानी के लिए काफी सशक्त प्रणाली है.