उत्तराखंड के प्रत्याशी अब विधानसभा चुनाव में ऑनलाइन दे सकेंगे खर्च का ब्यौरा, आयोग उठाएगा पूरा खर्च

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में मतगणना के 30 दिन के भीतर सभी प्रत्याशियों को निर्वाचन व्यय का लेखा-जोखा जिला निर्वाचन अधिकारी के पास अनिवार्य रूप से जमा करना होता है। अब तक प्रत्याशी यह लेखा-जोखा ऑफलाइन जमा करते आए हैं। जिस कारण कई बार व्यय दस्तावेजों में कांट-छांट रहती है और आयोग तक अपूर्ण जानकारी पहुंचती है।

ऐसे में कई बार प्रत्याशियों को सदस्यता निरस्त होने व भविष्य में चुनाव लड़ने से प्रतिबंधित किए जाने की कार्रवाई तक से जूझना पड़ता है। अब इसका हल निकालते हुए आयोग ने अब खर्च का ब्योरा ऑनलाइन जमा कराने का विकल्प भी दिया है। जिसका पूरा खर्च आयोग खुद उठाएगा। 1200 रुपये की नियत फीस के अलावा प्रति पृष्ठ 150 रुपये अलग से देय होंगे जो आयोग खुद वहां करेगा।

इस संबंध में सोमवार को मुख्य कोषाधिकारी कार्यालय में बैठक बुलाई गई। जिसमें निर्वाचन व्यय से जुड़े अधिकारियों ने इलेक्शन कमीशन रिटर्न प्रिपेयरों को ऑनलाइन प्रक्रिया की जानकारी दी। यही प्रिपेयर प्रत्याशियों के निर्वाचन व्यय को ऑनलाइन भेजने का काम करेंगे। निर्वाचन व्यय के नोडल अधिकारी मो. गुलफाम अहमद ने बताया कि ऑनलाइन माध्यम से निर्वाचन व्यय का ब्योरा जमा कराने का सबसे अधिक फायदा प्रत्याशियों को ही मिलेगा। उम्मीद है कि अधिक से अधिक प्रत्याशी ऑनलाइन माध्यम को अपनाएंगे। बैठक में निर्वाचन व्यय के सहायक नोडल अधिकारी संजीव कुमार, कैलाश पांडे, सुनील रतूड़ी, राजीव गुप्ता, विमल सेमवाल आदि उपस्थित रहे।