यूपी में मुलायम-अखिलेश का पारिवारिक कलह एक तयशुदा नाटक था, हम सबको इस्तेमाल किया गया – अमर सिंह

अमर सिंह ने एक समाचार चैनल को मंगलवार को बताया कि यह एक तयशुदा नाटक था जिसमें हम सबको एक भूमिका दी गई थी। इस बात का अहसास हमें बाद में हुआ कि हम सबका इस्तेमाल किया गया है। हमें समझ आया कि एंटी-इनकंबेंसी, उत्तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था के हालात से लोगों का ध्यान हटाने के लिए यह सारा खेल रचाया गया। उन्होंने कहा, ‘मुलायम को अपने बेटे के हाथों हारना पसंद है।

साइकिल (पार्टी चिन्ह), बेटा और सपा उनकी कमजोरी हैं। यहां तक कि मतदान के दिन भी पूरा परिवार एक साथ गया था। तो फिर ये सारा ड्रामा किस लिए?’ अमर सिंह ने की मोदी की तारीफ, भाजपा में जाने के इच्छुक उल्लेखनीय है कि कुछ समय पहले तक समाजवादी पार्टी एक बुरे दौर से गुजर रही थी। मुलायम और उनके बड़े बेटे अखिलेश यादव के बीच सत्ता संघर्ष ने इतना विकराल रूप ले लिया था कि पार्टी टूटने के कगार पर आ गई थी।

दोनों नेता चुनाव चिह्म के लिए चुनाव आयोग तक चले गए थे। हालांकि सपा का एक धड़ा अमर सिंह पर मुलायम और अखिलेश के बीच फूट डालने के भी आरोप लगाता है। उनकी पार्टी की ओर से हाल ही में उन्हें राज्यसभा सदस्य बनाकर सक्रिय राजनीति से दूर रहने का संकेत दिया गया था।