भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने वर्ल्ड कप के लिए किया क्वालिफाई

भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए आईसीसी महिला विश्व कप क्वालिफायर में शुक्रवार को बांग्लादेश को हराकर वर्ल्ड कप के लिए क्वालिफाई कर लिया. पूरे टूर्नामेंट में भारतीय महिला टीम की कप्तान मिताली राज ने शानदार प्रदर्शन किया और लगभग अपने दम पर टीम को वर्ल्ड कप तक पहुंचा दिया. बांग्लादेश पर मिली जीत में मिताली और मोना मेसराम की पारियों का अहम रोल रहा. दोनों ने फिफ्टी लगाई. मोना जहां 78 रन पर नाबाद रहीं, वहीं कप्तान मिताली राज 73 रन पर नाबाद लौटीं. भारत ने यह मैच 9 विकेट से जीता. मेसराम को प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया.

नॉडेस्क्रीप्ट क्रिकेट क्लब मैदान पर खेले गए मैच में बांग्लादेश ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 50 ओवरों में 8 विकेट पर 155 रन बनाए थे. भारतीय गेंदबाजों ने बांग्लादेश के बल्लेबाजों को टिकने का मौका नहीं दिया और इस प्रकार वह बुमश्किल 150 से अधिक स्कोर खड़ा कर पाई.

इससे पहले भारत ने टॉस जीतकर बांग्लादेश के बल्लेबाजी का न्योता दिया. भारत ने 14 रनों पर ही बांग्लादेश के दो विकेट गिरा दिए थे. शर्मिने अख्तर (35) और फरगाना हक (50) ने तीसरे विकेट के लिए 62 रनों की साझेदारी कर टीम को संभालने की कोशिश की. दोनों ने धीमी बल्लेबाजी की और 23.2 ओवर में 2.65 की औसत से रन जोड़े. लेकिन इन दोनों के जाने के बाद भारतीय गेंदबाजों ने बांग्लादेशी बल्लेबाजों पर अंकुश सा लगा दिया. लगातार विकेट लेने के साथ भारतीय गेंदबाज बांग्लादेश को रनों के लिए भी तरसा रहे थे. निगार सुल्तान (18), सलमा खातुन (14) बमुश्किल अपने खाते में रन जोड़ने में सफल रहीं.

भारत की तरफ से मानसी जोशी ने सर्वाधिक तीन विकेट लिए. देविका वैद्य को दो सफलता मिली. शिखा यादव और राजेश्वरी गायकवाड़ के हिस्से एक-एक विकेट आया. राजेश्वरी ने एक रन आउट भी किया. भारत ने आसान से लक्ष्य को 33.3 ओवरों में महज एक विकेट खोकर हासिल कर लिया.

आसान से लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत भी कुछ ठीक नहीं रही. ओपनर दीप्ति शर्मा एक रन पर ही आउट हो गईं. भारत का पहला विकेट 22 रन पर गिरा, लेकिन इसके बाद मेशराम और मिताली ने दूसरे विकेट के लिए 136 रनों की साझेदारी कर टीम को जीत दिला दी. मेसराम ने 92 गेंदों में 12 चौके लगाए, जबकि मिताली ने 87 गेंदो का सामना करते हुए 10 चौके और एक छक्का जड़कर 73 रन ठोके.