ISRO की रेकॉर्ड सैटलाइट्स लॉन्चिंग पर चीन को जलन, बोला- भारत अब भी है पीछे

104 सैटेलाइट के सफल प्रक्षेपण के बाद दुनियाभर में भारत का डंका बज रहा है. इसरो की कामयाबी पर दुनिया के अधिकतर देश भारत की प्रशंसा कर रहे हैं. लेकिन भारत के खाते में आयी ये कामयाबी चीन को हजम नहीं हो रही है. वहां के एक अखबार में लिखा गया है कि भारत अभी भी अंतरिक्ष के क्षेत्र में अमेरिका और चीन से काफी पीछे है.

चीनी अखबार ग्लोबल टाइम्स के एक लेख में कहा गया है कि स्पेस के क्षेत्र में कामयाबी सिर्फ नंबर के आधार पर नहीं होती है, इसलिए यह एक लिमिटिड कामयाबी ही है और यह बात भारतीय वैज्ञानिक भी जानते हैं. इसके साथ ही इस लेख में कहा गया है अभी तक भारत की ओर से स्पेस स्टेशन के लिए कोई भी प्लान नहीं है, तो वहीं मौजूदा समय में भारत का कोई भी एस्ट्रोनॉड अंतरिक्ष में नहीं है. उनके अनुसार, चीन के दो एस्ट्रोनॉड्स ने पिछले साल 30 दिन अंतरिक्ष में बिताए थे.

इससे पहले, जब भारत ने मंगलयान का सफल मिशन किया था तो चीनी मीडिया ने उसे पूरे एशिया के लिए गौरव की बात बताया था और कहा था कि वह भारत के साथ मिलकर स्पेस के क्षेत्र में काम करना चाहता है.

गौरतलब है कि भारत में इसरो ने बुधवार को मेगा मिशन के जरिए विश्व रिकॉर्ड बना लिया है. PSLV के जरिए एक साथ 104 सैटेलाइट का सफल लॉन्च किया गया. इनमें से तीन भारतीय सैटेलाइट व 101 विदेशी सैटेलाइट है. अभी तक यह रिकार्ड रूस के नाम था, जो 2014 में 37 सैटेलाइट एक साथ भेजने में कामयाब रहा.