देवभूमि को कलंकित करने वाली सरकार को उखाड़ फेंकों : पीएम नरेंद्र मोदी

उत्तराखंड के लिए अगले पांच सालों की अवधि को किसी 16 वर्षीय किशोर के विकास के लिए जरूरी समय जितना महत्वपूर्ण बताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को जनता से देवभूमि के नाम को कलंकित करने वाली सरकार को उखाड़ फेंकने और उसकी जगह राज्य के अटलजी के स्वप्न को साकार करने वाली सरकार लाने को कहा.

हरिद्वार के ऋषिकुल मैदान में आयोजित बीजेपी की ‘विजय संकल्प रैली’ में पीएम मोदी ने कहा, ‘हर किसी के जीवन में 16वां वर्ष बहुत महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि अगले पांच साल भविष्य की बातों को निर्धारित करते हैं और अपने अस्तित्व के 16वें वर्ष में उत्तराखंड के साथ भी यही बात है. अगले पांच साल वह दिशा निर्धारित करेंगे जिसमें इसे जाना है.’ उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में भ्रष्टाचार को अदालतों में सिद्ध किए जाने की कोई आवश्यकता नहीं है, क्योंकि यह ऐसी चीज है जिसे पूरे देश ने टेलीविजन पर देखा है.

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘एक ऐसा समय था जब देवभूमि के जिक्र से पवित्र भावनाएं आती थीं, लेकिन अब ऐसा नहीं है. अब इस शब्द के जिक्र से दिमाग में एक दागदार सरकार की छवि आती है. पूरे देश में इसे टीवी पर देखा, क्या आप ऐसी सरकार को सत्ता से बाहर नहीं करेंगे, जिसने देवस्थली की प्रतिष्ठा को ठेस पहुंचायी.’

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के उत्तराखंड के लिए देखे गये स्वप्न को साकार करने की जिम्मेदारी खुद पर लेने की बात कहते हुए पीएम मोदी ने जनता से बीजेपी की सरकार लाने को कहा जो उत्तराखंड के गौरव को बहाल करें.

पीएम मोदी ने कहा कि उन्होंने उत्तराखंड के लिए वाजपेयी के सपने को पूरा करने का संकल्प लिया है, क्योकि केंद्र में उनके बाद आयी सरकार ने इस प्रक्रिया को पटरी से ही उतार दिया. चारधाम तीर्थयात्रा को सुव्यवस्थित करने के लिए अपनी सरकार द्वारा उठाये गये कदमों के बारे में बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि उसने 12000 करोड़ रुपये की लागत वाली आल वेदर रोड परियोजना का शिलान्यास किया, जिससे हिमालयी धामों के दर्शन को आने वाला हर व्यक्ति अपने भ्रमण का आनंद ले और सुरक्षित घर लौटे.

मुख्यमंत्री हरीश रावत का नाम लिए बिना उन पर करारा प्रहार करते हुए मोदी ने कहा कि केंद्र में मंत्री होने तथा हर मां के बेटे के सैन्य बलों में जाने वाले राज्य का निवासी होने के बावजूद उन्होंने दशकों से लटके पड़े वन रैंक वन पेंशन को तेजी से लागू करने के लिए कुछ नहीं किया.

यूपीए सरकार के 500 करोड़ रुपये के ओआरओपी लागू करने के फार्मूले को पूर्व फौजियों को गुमराह करने वाला बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने 12000 करोड़ रुपये का यथार्थवादी अनुमान लगाया और उसमें से 6000 करोड़ रुपये का भुगतान भी कर दिया. उन्होंने कहा, ‘वादे ऐसे किए जाते हैं और निभाए जाते हैं.’

सर्जिकल स्ट्राइक के समय कांग्रेस पर पाकिस्तान के प्रवक्ता की तरह बोलने का आरोप लगाते हुए पीएम मोदी ने कहा कि पार्टी ने उस पर शक करके सैन्य बलों का अपमान किया जबकि अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर उसे सराहना मिली.

उत्तराखंड में हाल में आए भूकंप के बाद केंद्र के तत्काल हरकत में आते हुए एनडीआरएफ बलों को प्रभावित क्षेत्रों में रवाना करने का दावा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि जब केदारनाथ में आपदा आयी तब कांग्रेस के नेता मजे ले रहे थे.

केदारनाथ आपदा के समय कांग्रेस नेताओं पर विदेशों में जाकर खुशियां मनाने का आरोप लगाते हुए मोदी ने चेतावनी देते हुए उसे अपनी भाषा सुधारने या फिर उसके परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहने को कहा.

उन्होंने कहा, ‘मैं कांग्रेस से कहता हूं कि वह अपनी जुबान पर लगाम लगाए. मेरे पास आप सबकी जन्मपत्री है. अगर आप अपनी बोलने की मर्यादा और भाषा की गरिमा को पार करेंगे तो आपका अतीत, आपके कर्म आपको छोड़ने वाले नहीं हैं.’

प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने उत्तराखंड को संवारने की जिम्मेदारी ली है और इसके लिये उन्होंने राज्य में हर जगह चल रहे भ्रष्टाचार और काले धन के युगलगीत पर विराम लगाने के लिए जनता से आशीर्वाद मांगा.

नोटबंदी को सही ठहराते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘भ्रष्टाचार और काले धन के युगलगीत को बंद करने के लिए मैं कोई भी कड़ा निर्णय कर सकता हूं, क्योंकि मुझे किसानों के खेतों तक सिंचाई का पानी पहुंचाना है और बेरोजगारों के लिए काम पैदा करना है.’