यूपी चुनाव 2017: मेरठ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले -ये चुनाव स्कैम के खिलाफ भाजपा की लड़ाई है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को उत्तर प्रदेश के मेरठ में एक रैली को संबोधित किया. पीएम ने इस मौके पर कहा कि मुझे मेरठ की पवित्र धरती पर आने का सौभाग्य मिला. मेरठ की आजादी के आंदोलन में बड़ी भूमिका है. यहां के मंगल पांडे ने अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी. 1857 की क्रांति में मेरठ का मुख्य योगदान है. उस समय अंग्रेजों से मुक्ति की लड़ाई थी, अब भ्रष्टाचार से मुक्ति की लड़ाई है. पीएम ने कहा कि 1857 के स्वतंत्रता संग्राम का बिगुल यहीं से बजा था और मैं भी मेरठ की धरती से परिवर्तन का बिगुल बजा रहा हूं. बहन-बेटियों की इज्जत लूटने वाले और शोषण करने वालों के खिलाफ ये लड़ाई है.

UP में गुंडागर्दी को बचाने वाली सरकार
पीएम ने कहा कि अभी तो मुझे यूपी का कर्ज चुकाना है. आपने मुझे प्रधानमंत्री बनाया और आपने मुझे जो काम दिया है, ढाई साल हो गए मोदी के नाम पर कोई कलंक है क्या? यूपी में रुकावट वाली सरकार होगी तो केंद्र सरकार की मदद अटक जाएगी. यहां प्राकृतिक संसाधन है, युवाओं का जोश है जो कुछ कर गुजरने का माद्दा रखता है. यूपी में गुंडागर्दी को बचाने वाली सरकार है. गुंडों को आश्रय देने वाली सरकार को हटाना है, मां-बहन की इज्जत लूटने वाली सरकार को हटाना है. मेरठ ही पश्चिमी उत्तर प्रदेश के विकास का प्रवेश द्वार है, लेकिन मेरठ का हाल क्या है?

पीएम ने बताया SCAM का मतलब
पीएम मोदी ने कहा कि ये चुनाव स्कैम के खिलाफ है. यहां उन्होंने SCAM का मतलब- S से समाजवादी, C से कांग्रेस, A से अखिलेश और M से मायावती बताया. जब तक उत्तर प्रदेश को SCAM से मुक्त नहीं करोगे तब तक यहां सुख चैन नहीं आएगा. इन्होंने जिनको जमीनों का माफिया कहा ऐसा लोगों को इन्होंने टिकट दिया, क्योंकि इनके इरादे नेक नहीं हैं.

पहली बार ऐसा गठबंधन देखा: मोदी
सपा-कांग्रेस के गठबंधन पर पीएम ने कहा कि अभी ये कांग्रेस वाले गांव-गांव जाकर उत्तर प्रदेश को कैसे लूटा जा रहा है, बताते थे. रातों-रात ऐसा क्या हो गया कि आप उसके गले लग गए? राजनीति में ऐसा गठबंधन पहली बार देखा जो सुबह शाम एक-दूसरे को खत्म करने के लिए कोई मौका नहीं छोड़ते थे आज एक दूसरे के गले लग गए.

‘विकास पर खर्च नहीं कर पाई राज्य सरकार’
पीएम ने कहा कि गरीबों को बीमारी में सरकार की तरफ से मदद मिले, इसके लिए भारत सरकार ने यूपी सरकार को 4 हजार करोड़ दिए. 4 हजार करोड़ में से ढाई हजार करोड़ भी खर्च नहीं किए, जो भी खर्च किए उसका हिसाब भी अभी तक नहीं दे पाए. यूपी बड़ा है इसलिए मैंने 7 हजार करोड़ दिए, लेकिन उत्तर प्रदेश सरकार इस पैसे को भी खर्च नहीं कर पाई. यूपी सरकार ने वोटबैंक के लिए पैसा खर्च नहीं किया, यूपी सरकार ने धर्म-जाति के आधार पर बीमारी को भी तौला. भारत सरकार ने अमृत योजना बनाई इसके तहत 7 हजार 2 सौ करोड़ दिया गया, लेकिन खर्च किया 400 करोड़. पीएम ने कहा कि सफाई अभियान के लिए यूपी सरकार को केंद्र ने साढ़े 9 सौ करोड़ दिया, और ये 40 करोड़ भी नहीं खर्च कर पाए. यूपी ने मुझे प्रधानमंत्री बनाया है इसलिए दिल्ली सरकार यहां के लिए कुछ भी करने को तैयार है. आजादी के 70 साल के बाद आज सभी के पास घर होना चाहिए, इसलिए भारत 2022 तक हिंदुस्तान के सभी लोगों के पास अपना घर होगा.

पीएम ने की वादों की बौछार
पीएम ने वादों की बौछार करते हुए कहा कि बीजेपी सरकार बनते ही लघु और सीमांत किसानों का फसल कर्ज माफ होगा. मैं वचन देता हूं, मैं दिल्ली से देखूंगा कि मेरा किया वादा पूरा किया या नहीं. गन्ना किसानों के लिए वादा किया है कि अब 14 दिनों में गन्ना किसानों का भुगतान कर दिया जाएगा. किसानों के नाम पर यात्रा करने वाले किसानों के नाम पर राजनीति करने वाले से पूछता हूं इन किसानों का 22 हजार करोड़ क्यों बकाया था.

99 फीसदी किसानों को भुगतान उनके अकाउंट में
पीएम ने कहा कि हम आए और जिन किसानों का पैसा बाकी था, 99 फीसदी गन्ना किसानों के पैसा का भुगतान सीधे उनके बैंक अकाउंट में डाल दिया. जहां-जहां बीजेपी की सरकारें हैं, वहां किसान जो भी पैदा करता है, करीब-करीब 60 फीसदी से ज्यादा किसानों को भुगतान हो जाता है. 2014 में जिनकी पराजय हुई, जो हंग पार्लियामेंट का सपना देख रहे थे वो ही आज विरोध कर रहे हैं.

‘बड़े-बड़े देश सर्जिकल स्ट्राइक देखते रह गए’
मेरठ में पीएम बोले कि OROP के नाम पर 40 सालों से धूल झोंका गया, हमने वादा किया और पूरा भी किया. आज तक हमने फौजियों की ताकत को कम आंका, अंधेरी रातों में कोई भी आकर उन्हें मार कर चला जाता था. मैंने फौजियों से बात की और उन्हें समझने की प्रयास किया, और जब हमारे फौज ने सर्जिकल स्ट्राइक की तो बड़े-बड़े देश देखते ही रह गए. आप तो जनाते है, नेता लोग दिवाली और जन्मदिन कहां-कहां मनाते हैं, लेकिन मैं सीमा पर जाकर दिवाली मनाया.