मसूरी से बीजेपी उम्मीदवार गणेश जोशी के खिलाफ विरोधी प्रत्याशी ‘शक्तिमान’ पर सवार

‘पहाड़ों की रानी’ मसूरी में कड़ाके की ठंड जरूर है, लेकिन चुनाव प्रचार की गर्माहट भी साफ महसूस की जा सकती है. मसूरी विधानसभा में मुख्य मुकाबला भाजपा प्रत्याशी और मौजूदा विधायक गणेश जोशी और कांग्रेस उम्मीदवार गोदावरी थापली के बीच है.

इस सीट पर कई मुद्दे हैं, लेकिन शक्तिमान घोड़ा भी चुनाव प्रचार में छाया हुआ है. पिछले साल बीजेपी विधायक गणेश जोशी पर एक प्रदर्शन के दौरान देहरादून पुलिस के घोड़े शक्तिमान की टांग तोड़ने का आरोप लगा था.

कांग्रेस सहित तमाम दलों और भाजपा के बागी उम्मीदवार चुनाव में बीजेपी विधायक से जुड़े शक्तिमान घोड़े कांड को चुनावी हथियार के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं. चुनाव प्रचार में बीजेपी उम्मीदवारों के विरोधी प्रत्याशी शक्तिमान घोड़े प्रकरण को लोगों के बीच ले जाने का काम कर रहे हैं.

मार्च 2016 में विधानसभा के बाहर एक प्रदर्शन के दौरान देहरादून पुलिस के घोड़े शक्तिमान की टांग टूट गई थी. बीजेपी विधायक गणेश जोशी पर शक्तिमान की टांग तोड़ने का अरोप लगा था. इस घटना में पुलिस ने बीजेपी विधायक गणेश जोशी के खिलाफ प्रिवेंशन ऑफ एनिमल क्रुएल्टी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया था.

विधायक जोशी को इस मामले में गिरफ्तार भी किया गया था. बाद में उन्हें इस मामले में जमानत मिल गई थी. यहां तक की बीजेपी नेता मेनका गांधी ने भी इस मुद्दे पर जोशी के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही थी.

उस वक्त राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय मीडिया में शक्तिमान की खबर वायरल हो गई थी. अब जब विधानसभा का चुनाव होने जा रहा है तो विरोधी उम्मीदवार जोशी के खिलाफ शक्तिमान का मुद्दा खूब उछाल रहे हैं.

इसी मुद्दे को अब बीजेपी विधायक गणेश जोशी के खिलाफ विपक्षी अब चुनावी हथियार बना रहे हैं. कांग्रेस प्रत्याशी गोदावरी थापली कहा कहना है कि बीजेपी प्रत्याशी गणेश जोशी से जुड़े शक्तिमान घोड़े के मुद्दे को वे जनता के बीच ले जा रही हैं, ताकि जनता को विधायक के असली स्वभाव का पता चल सके.

यूकेडी के केन्द्रीय मीडिया प्रभारी संजय क्षेत्री के मुताबिक शक्तिमान कांड के साथ ही वे सोना खरीद प्रकरण में कथित तौर पर विधायक का नाम आने और राबर्ड वाड्रा के साथ हुए विवाद को भी जनता के बीच ले जा रहे हैं. साथ ही मसूरी में हुए तिरंगा विवाद भी जनता के बीच लेकर जा रहे हैं.

ध्यान रहे कि पिछले साल ही देहरादून के जोलीग्रांट एयरपोर्ट पर प्रियंका गांधी के पति रॉबर्ट वाड्रा से गणेश जोशी का सामना हो गया था. इस दौरान वाड्रा ने जोशी पर ‘घोड़े वाले विधायक’ कहकर टिप्पणी कर दी थी. इसके बाद दोनों के बीच कहा सुनी हो गई थी.

बेशक शक्तिमान घोड़ा आज इस दुनिया में नहीं है, लेकिन मौजूदा चुनाव में खासतौर पर मसूरी विधानसभा क्षेत्र में अधिकतर प्रत्याशी अपने राजनीतिक फायदे के लिए मरहूम शक्तिमान का खुलकर इस्तेमाल कर रहे हैं.

वहीं बीजेपी प्रत्याशी गणेश जोशी ने का कहना है कि शक्तिमान कांड का सच पूरे देश ने देख लिया था. सीएम हरीश रावत ने उन्हें इस मामले में फंसाने का काम किया था. इसलिए रावत सरकार ही गिर गई थी और कांग्रेस पार्टी टूट गई थी. चुनाव में विपक्षी उनके खिलाफ दुष्प्रचार कर रहे हैं. जोशी का कहना है कि उनको जनता जवाब देगी.