घर में बीवी की लाश दफन कर मर्सिडीज से घूमता था इंजीनियर हत्यारा

दोस्ती, मोहब्बत और शादी के बाद प्रेमिका से पत्नी बनी युवती के कत्ल का एक सनसनीखेज मामला सामने आया है. आरोपी पति ने हत्या के बाद पत्नी की लाश को घर में ही दफन कर उसके ऊपर खुद ही सीमेट-क्रांकीट का चबूतरा बना दिया.

मामला मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल का है. यहां पश्चिम बंगाल पुलिस अपने राज्य के बाकुरा जिले में रहने वाली आकांक्षा श्वेत की तलाश में पहुंची थी. आकांक्षा के पिता ने बाकुरा जिले में अपनी बेटी के लापता होने का केस दर्ज करवाया था.

मर्सिडीज कार से घूमता था हत्यारा
हत्या के बाद उसने गर्लफ्रेंड की डेडबॉडी को ठिकाने लगाने के लिए एक बॉक्स में बंद किया. उस बॉक्स में कई बोरी सीमेंट और पानी डाला, ताकि डेडबॉडी स्टोन बन जाए. बॉक्स को जमीन में दफन कर उसने उसके उपर चबूतरा बना दिया. इस दौरान उसने किसी को भनक तक नहीं लगने दी. दो महीने बीत चुके थे. वह रोज उस चबूतरे पर सोता था. आसपास किसी को जाने तक नहीं देता था. जिंदगी शानदार थी. मर्सिडीज कार से घूमता. अकेले में घर में रहता. लेकिन बेचैनी खाए जाती.

कैसे खुला सनसनीखेज मर्डर केस
सब-इंस्पेक्टर रमेश राय ने बताया कि वेस्ट बंगाल के बाकुरा जिले के रहने वाले देवेंद्र कुमार शर्मा की 28 साल की बेटी आकांक्षा श्वेत 24 जून 2016 से लापता थी. देवेंद्र ने बाकुरा थाने में अपनी बेटी के अपहरण का मामला दर्ज करवाया था. उनको शक था कि आकांक्षा किसी उदय दास (32) नाम के लड़के के साथ भोपाल के गोविंदपुरा में रह रही है. पिता की निशानदेही पर बाकुर थाना पुलिस गोविंदपुरा पहुंची और भोपाल पुलिस की मदद से उदय दास को हिरासत में लिया.

शव को बॉक्स में डालकर दफनाया
पुलिस ने जब आरोपी उदस से कड़ाई से पूछताछ की तो उसने इस मामले का खुलासा किया. उसने बताया कि वह आकांक्षा के साथ रहता था. लेकिन दोनों के बीच हो रहे झगड़े से वह तंग आ गया था. इसलिए उसने आकांक्षा की हत्या कर उसके शव को घर में ही दफन कर दिया है. शव सड़े नहीं इसलिए उसे एक बॉक्स में डालकर उसमें सीमेंट डाल दिया. पुलिस ने उदय से ही उस जगह की खुदाई करवाई, तो बॉक्स से आकांक्षा की लाश बरामद हो गई. इस मामले की जांच जारी है.