ब्रज में आज से शुरू हो जाएगी होली, मंदिरों में उड़ेगा गुलाल

मथुरा, वृन्दावन सहित ब्रज के सभी तीर्थस्थलों में होली की तैयारियां कई दिन से जारी हैं. बुधवार 1 फरवरी यानी बसंत पंचमी के दिन से यहां होली शुरू हो रही है.

परंपरा के अनुसार बसंत पंचमी के दिन ब्रज के सभी मंदिरों एवं चौराहों पर (जहां होली जलाई जाती है), होली का प्रतीक लकड़ी का टुकड़ा गाढ़ दिया जाता है. उसके बाद मंदिरों में प्रतिदिन होली के शास्त्रीय गीतों पर आधारित समाज गायन प्रारंभ हो जाता है.

बांके बिहारी मंदिर के राजभोग अधिकारी प्रणव गोस्वामी एवं गोपी गोस्वामी के अनुसार एक फरवरी को बसंत पंचमी के दिन होली का आगाज़ हो जाएगा.

ब्रज में इस बार बरसाने की लट्ठमार होली फाल्गुन शुक्ला नवमी यानी छह मार्च को तथा नन्दगांव में सात मार्च को मनाई जाएगी. 13 मार्च को होलिका दहन वाले दिन फालैन तथा जटवारी गांव में पण्डे धधकती होली में से निकलेंगे.

फालैन में इस बार यह परंपरा निभाने का अवसर बाबूलाल पण्डा (47) को मिला है. बाबूलाल पूर्व में दो बार प्रहलाद की भूमिका निभाते हुए यह परंपरा निभा चुके हैं. इससे पूर्व दो साल से हीरालाल यह भूमिका निभाते चले आ रहे थे.