6 मई को तड़के 4.15 बजे खुलेंगे बद्रीनाथ धाम के कपाट

भक्त आगामी छह मई से बद्रीनाथ धाम में भगवान बद्री विशाल के दर्शन कर सकेंगे. बुधवार को बद्रीनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि घोषित कर दी गई.

22 अप्रैल को टिहरी नरेश के राजदरबार में महारानी द्वारा तिल का तेल निकाला जाएगा. इसके बाद छह मई को विधि-विधान के साथ तड़के 4.15 बजे धाम के कपाट दर्शन के लिए खोल दिए जाएंगे.

शीतकाल के बाद भगवान बद्री विशाल के कपाट खुलने का मुहूर्त बसंती पंचमी के दिन नरेंद्रनगर स्थित राजदरबार में तय किया गया. बुधवार को प्रात: 9.30 बजे से नरेंद्रनगर राजदरबार में धार्मिक कार्यक्रम हुए।
राजा मनुजयेंद्र शाह की जन्म कुंडली देखने के बाद तय हुआ दिन.

राजा मनुजयेंद्र शाह की जन्म कुंडली देखने के उपरांत आर्चायगण ने बद्रीनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि और समय तय किया.

हर साल कपाट खुलने से पहले कलश यात्रा नरेंद्रनगर राजदरबार से शुरू होते हुए ऋषिकेश, देवप्रयाग, श्रीनगर, रुद्रप्रयाग, कर्णप्रयाग, डिमरगांव होते हुए बद्रीनाथ धाम पहुंचती है.

अनुष्ठान में राजा मनुजयेंद्र शाह, मंदिर समिति के मुख्य कार्याधिकारी बीडी सिंह, धर्माधिकारी भुवन उनियाल और डिमरी केंद्रीय धार्मिक पंचायत के पदाधिकारी और सदस्यगण शिरकत की.