अखिलेश सपा में तो लौट आए, सरकार में दूसरी बार नहीं लौटेंगे : बीजेपी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का निष्कासन वापस लेने के समाजवादी पार्टी (सपा) के फैसले का मजाक उड़ाते हुए भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने शनिवार को कहा कि वह भले ही पार्टी में लौट आए हैं लेकिन विधानसभा चुनाव के बाद सत्ता में नहीं लौट पाएंगे, क्योंकि उनका पांच साल का रिपोर्ट कार्ड विफलताओं से भरा है.

पार्टी ने कहा कि सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव और उनके बेटे अखिलेश यादव चाहे जो भी प्रयास या नौटंकी कर लें लेकिन वे लोगों का मन नहीं जीत पाएंगे. मतदाताओं ने राज्य के विकास के लिए बीजेपी को 15 साल के अंतराल के बाद सत्ता में पहुंचाने के लिए उसे वोट देने का मन बना लिया है.

बीजेपी सचिव श्रीकांत शर्मा ने कहा, ‘मुख्यमंत्री की अपनी पार्टी में वापसी हो सकती है, जिसने उन्हें निष्कासित किया, लेकिन उनकी सत्ता में वापसी नहीं हो सकती, क्योंकि उनकी सरकार का रिपोर्ट कार्ड विफलताओं से भरा है. उनकी सराकर ने न केवल भ्रष्टाचार ओर अपराध को बढ़ावा दिया, बल्कि आम आदमी के लिए कुछ नहीं किया.’

विभाजन की संभावनाओं, जिससे सपा प्रमुख का प्रभाव काफी घट जाता, से जूझ रहे मुलायम सिंह यादव ने शनिवार को अखिलेश और उनके चाचा रामगोपाल का निष्कासन वापस ले लिया. गुरुवार को ही दोनों अनुशासनहीनता को लेकर पार्टी से बर्खास्त कर दिए गए थे.

शर्मा ने जवाहर बाग हिंसा और बुलंदशहर सामूहिक बलात्कार कांड जैसी घटनाओं का हवाला देते हुए आरोप लगाया कि लोग अखिलेश के शासन को सपा सरकार की स्वास्थ्य, शिक्षा और बुनियादी ढांचों पर विफलताओं के अलावा ऐसी घटनाओं के लिए याद करते हैं. उन्होंने दावा किया कि बीजेपी के पक्ष में सुनामी है.