नेपाल के रास्ते उत्तराखंड में घुसे आतंकी, चल रही है सेना की सघन जांच

फाइल फोटो

भारतीय सेना के जोशीमठ औली मोटर मार्ग पर स्थानीय लोगों के वाहनों की आवाजाही रोकने के पीछे तहसील प्रशासन को सौंपे पत्र से प्रशासन में हड़कंप मच गया है. सेना ने साफ किया है कि उन्हें नेपाल के रास्ते आतंकवादियों के उत्तराखंड में घुसने की खुफिया सूचना मिली है.

लिहाजा वे सेना क्षेत्र के अंदर से आम वाहनों की आवाजाही रोक रहे हैं. वहीं आम वाहनों को रोके जाने पर गुरुवार को ग्रामीणों ने एसडीएम के साथ बैठक कर गुस्से का इजहार किया. मामले के निस्तारण के लिए उपजिलाधिकारी ने स्थानीय लोगों को इस मसले पर सेना से वार्ता करने का आश्वासन दिया है.

जोशीमठ टैक्सी स्टैंड से औली जाने के लिए मिलिट्री इंजीनियरिंग कोर (एमईएस) होते हुए मोटर मार्ग गुजर रहा है. वहीं करीब एक किमी लंबी सड़क सीएसडी कैंटीन के बीच से भी होकर गुजरती है. गुरुवार को सेना की ओर से तहसील प्रशासन को पत्र दिया गया है, जिसमें आतंकवादियों के घुसने की सूचना मिलने के बाद इस मार्ग पर वाहनों की चेकिंग व आवाजाही रोकने का कारण बताया गया है.

उपजिलाधिकारी जोशीमठ योगेंद्र सिंह ने सेना की ओर से मिले इस पत्र के बारे में पुष्टि की है. एक पखवाड़े से जोशीमठ से औली जाने वाली एमईएस रोड से सेना ने स्थानीय लोगों की आवाजाही बंद कर दी है. इससे लोगों को परेशानी हो रही है. इसके लिए तहसील प्रशासन की मध्यस्थता में सेना, स्थानीय लोगों में वार्ता का दौर भी जारी है.