नए साल से पहले पीएम मोदी फिर कर सकते हैं राष्ट्र को संबोधित, किसानों और मजदूरों को दे सकते हैं बड़ी राहत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नए साल से पहले 31 दिसंबर को एक बार फिर राष्ट्र को संबोधित कर सकते हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, प्रधानमंत्री 31 दिसंबर की शाम 7:30 बजे अपने इस संबोधन में काले धन के खिलाफ लड़ाई और नोटबंदी से जुड़ी कुछ नई घोषणाएं कर सकते हैं.

पिछली महीने 8 नवंबर को राष्ट्र के नाम संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी ने काले धन पर प्रहार के लिए 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों का चलन बंद करने की घोषणा की थी. लोगों को अपने पुराने नोट बैंकों में जमा कराने के लिए सरकार ने 31 दिसंबर तक का वक्त दिया था, जो कि अब खत्म होने जा रहा है. ऐसे में पूरी उम्मीद है कि प्रधानमंत्री नोटबंदी के संबंध में कुछ बड़ा ऐलान कर सकते हैं.

बेनामी संपत्ति पर हो सकता प्रहार

वहीं नोटबंदी के ऐलान के बाद प्रधानमंत्री कई बार कह चुके हैं कि कालेधन के बाद अब बेनामी संपत्ति पर प्रहार किया जाएगा. रेडियो पर प्रसारित अपने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में भी प्रधानमंत्री ने इस बाबत साफ इशारा किया था. इस वजह से 31 दिसंबर के इस संबोधन में बेनामी संपत्ति के खिलाफ भी कुछ बड़े फैसलों उम्मीद है.

नोटबंदी से हुए फायदे गिनवाएंगे

नोटबंदी को लेकर जनता को हुई कठिनाई के बावजूद पीएम इससे हुए फायदों को भी गिनवा सकते हैं. दरअसल, नोटबंदी के बाद से देशभर में छापेमारी जारी है.लगातार कालाधन बरामद किया जा रहा है.

किसानों और मजदूरों को राहत का ऐलान संभव

नोटबंदी से सबसे ज्यादा दिक्कत बीपीएल परिवारों, किसानों, मजदूरों को हुई है. सरकार उनके लिए राहत का ऐलान भी कर सकती है. जनधन खातों को लेकर भी महत्वपूर्ण ऐलान संभव है. कहा जा रहा है कि नोटबंदी से बेरोजगारी बढ़ सकती है, इसलिए पीएम इस संबंध में भी बड़ी घोषणा कर सकते हैं.