एनएच 74 पर जसपुर-सितारगंज मार्ग चौड़ीकरण में हुए भूमि घोटाले में एसएलओ जवाब तलब – HC

उत्तराखंड हाई कोर्ट ने राष्ट्रीय राजमार्ग 74 जसपुर-ऊधमसिंह नगर में जसपुर से सितारगंज तक मार्ग चौड़ीकरण के लिये कृषि भूमि के मुआवजे में हुये घोटाले के बावत ऊधमसिंह नगर के भूमि अध्याप्ति अधिकारी दिनेश प्रताप को नोटिस जारी कर तीन सप्ताह के भीतर जवाब दाखिल करने के निर्देश दिये है।

मामले के अनुसार ऊधमसिंह नगर निवासी सुमन नारायण ने हाई कोर्ट में जनहित याचिका दायर कर कहा है एनएच 74 के चैड़ीकरण के लिये जसपुर से सितारगंज तक कृषि और व्यवसायिक भूमि का अधिकरण एसएलओ द्वारा किया गया था। अधिकरण की अधिसूचना के अंतर्गत प्रभावित किसानों को मुआवजा दिया गया।

इस प्रक्रिया में काश्तकारों को कृषि का मुआवजा व्यवसायिक भूमि से दस गुना अधिक था जिस कारण भूमाफियाओं ने एसओलो से मिलकर काश्तकारों से जमीन खरीदकर उसका मुआवजा स्वयं हड़प लिया। याचिकाकर्ता के अनुसार एसएलओ दिनेश प्रताप सिंह ने काश्तकारों से उनकी भूमि का भूमि उपयोग परिर्वतन करने के नाम पर 40 प्रतिशत कमीशन मांगा और कई लोगों ने यह कमीशन एसएलओ को दे भी दिया था। जो कि भ्रष्टाचार की श्रेणी में आता है।

याचिका में कहा गया है कि एसएलओ की संपत्ति उसकी आय से कई गुना अधिक इसकी निष्पक्ष जांच भी की जानी चाहिये। याचिकाकर्ता ने यह भी आरोप लगाया कि एसएलओ ने ऊधमसिंह नगर में कीमती भूमि अपनी सास को गिफ्ट की है। न्यायाधीश न्यायमूर्ति राजीव शर्मा व न्यायमूर्ति सुधांशु धुलिया की खंडपीठ में मामले की सुनवाई हुई।

(ख़बर – यू एस सिजवाली, भवाली)