बलात्कार के झूठे मामले में फंसाकर करोड़ों ऐंठने वाले गिरोह का भंडाफोड़

राजस्थान पुलिस के विशेष ऑपरेशन समूह (एसओजी) ने दोस्ती कर दुष्कर्म के झूठे आरोप लगाकर करोडों रुपये ऐंठने वाले एक अन्तरराज्यीय गिरोह का पर्दापाश कर शनिवार को दो आरोपियों को गिरफ्तार किया.

एसओजी के महानिरीक्षक दिनेश एमएन ने बताया कि कुख्यात फरार अपराधी आनंद पाल सिंह के इशारे पर जयपुर में हिम्मत सिंह की हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार आरोपी से पूछताछ में इस गिरोह का पर्दापाश हुआ. उन्होंने बताया कि नवीन देवानी, नितेश बंधु शर्मा, अक्षत शर्मा और सोनू शर्मा, जयपुर, अजमेर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड से लडकियां बुलाकर प्रतिष्ठित लोगों से उनका सम्पर्क बढ़ाते थे.

महिलाएं बाद में मनमर्जी से शारीरिक संबंध बनाती थी, लेकिन बाद में उसे दुष्कर्म का रूप देकर आरोपी को पुलिस में मुकदमा दर्ज करवाने की धमकी देकर करोडों रुपये ऐंठते थे.

उन्होंने बताया कि पीड़ित डॉक्टर की ओर से शिकायत देने पर मामला दर्ज कर मामले की जांच कर पांच आरोपियों को नामजद कर अक्षत शर्मा और सोनू शर्मा को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि शेष की तलाश की जा रही है.

पुलिस महानिरीक्षक ने बताया कि आरोपियों ने एक लड़की के माध्यम से जयपुर के एक डॉक्टर सुनीज सोनी को अपने जाल में फंसाकर मुंह मांगे रुपये नहीं देने पर पुष्कर थाने में दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज करवा दिया.

आरोपियों ने बाद में डॉक्टर से मुकदमे से राहत दिलवाने के लिए एक करोड़ रुपये वसूल लिए और दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली लड़की अदालत में अपने बयान से मुकर गई. हालांकि, इस दौरान डॉक्टर को 75 दिन जेल में रहना पड़ा.