‘अग्नि-5’ मिसाईल हुई सफलतापूर्वक लांच|न्यूक्लियर हथियार के साथ 6000 किमी तक वार करने में सक्षम

अग्नि-5 के परीक्षण की खास बातें
देश में बनी बैलिस्टिक मिसाइल
DRDO ने विकसित किया
परमाणु क्षमता से लैस
अग्नि-5 का ये चौथा परीक्षण
अप्रैल 2012 में पहला परीक्षण
ज़मीन से ज़मीन पर मार करता है
5,000 किमी की दूरी तक मारक क्षमता
मिसाइल का प्रक्षेपण भार 50 टन
1 टन का परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम
अग्नि सीरीज़ की सबसे आधुनिक मिसाइल
हाइटेक नैविगेशन क्षमता से लैस

बालेश्वर: भारत ने आज स्वदेश में विकसित अंतर से सतह तक मार करने में सक्षम और परमाणु क्षमता से लैस बैलिस्टिक मिसाइल ‘अग्नि-5’ का ओड़िशा तट से दूर व्हीलर द्वीप से कामयाब लॉन्च किया. यह 6000 किमी तक वार करने में सक्षम है.यह मिसाइल भी अपने साथ न्यूक्लियर हथियार ले जाने में सक्षम है.

लंबी दूरी तक मार करने में सक्षम मिसाइल का यह चतुर्थ विकासात्मक और दूसरा कैनिस्टराइज्ड परीक्षण है. पहला परीक्षण 19 अप्रैल 2012 को किया गया था, जबकि दूसरा परीक्षण 15 सितंबर 2013, तीसरा परीक्षण 31 दिसंबर 2015 को इसे ठिकाने से किया गया था.
स्वदेश में विकसित सतह से सतह तक मार करने में सक्षम अग्नि-5 मिसाइल 6000 किलोमीटर से अधिक दूरी तक के लक्ष्य को भेदने में सक्षम है. यह 17 मीटर लंबा, दो मीटर चौड़ा है और इसका प्रक्षेपण भार तकरीबन 50 टन है. यह एक टन से अधिक वजन के परमाणु आयुध को ढोने में सक्षम है.

अग्नि श्रृंखला की अन्य मिसाइलों के विपरीत ‘अग्नि-5’ सर्वाधिक आधुनिक मिसाइल है. नैविगेशन और मार्गदर्शन के मामले में इसमें कुछ नयी प्रौद्योगिकियों को शामिल किया गया है.