शिक्षामंत्री नैथानी का अजब कारनामा, बंद पड़े स्कूल का लोकार्पण कर डाला

उत्तराखंड के शिक्षामंत्री की लीला भी अपार है, मंत्री मोहदय मंत्री प्रसाद नैथानी ने बरसोली के बंद पड़े एक हाईस्कूल का ही लोकार्पण कर दिया. टिहरी जिले के देवप्रयाग ब्लॉक का यह ऐसा उच्चीकृत राजकीय विद्यालय है, जहां हाईस्कूल की कक्षाओं के तीन बैच शिक्षकों की इंतजार में यहां से निकल गए.

जब शिक्षक नहीं आए, तो अभिभावकों ने अपने बच्चों का दूर-दराज के अन्य स्कूलों में दाखिला करवा लिया. नतीजतन, पांच साल पहले यह हाईस्कूल बंद हो गया. अब पद सृजन के बहाने शिक्षा मंत्री ने 21 दिसंबर को इसका लोकार्पण कर दिया है.

सरकार ने साल 2011 में जूहा बरसोली को हाईस्कूल का दर्जा तो दे दिया, लेकिन शिक्षकों के पद सृजित नहीं किए. जबकि इस विद्यालय से हाईस्कूल के तीन बैच निकल चुके हैं. शुरू में अस्थायी व्यवस्था पर यह विद्यालय चलता रहा. बाद में संबद्ध शिक्षक भी हटा दिए गए, तो विद्यालय शिक्षक विहीन हो गया.

इसीलिए बच्चों के भविष्य की खातिर इस साल अभिभावकों ने कक्षा आठ के बाद अपने बच्चों का प्रवेश दूसरे विद्यालयों में करा लिया. आज इस स्कूल में एक भी छात्र अध्ययनरत नहीं है, जबकि जूनियर हाईस्कूल में सिर्फ 11 बच्चे हैं.

इनमें से भी छह बच्चे कक्षा आठ में पढ़ रहे हैं. प्रजामंडल पार्टी के संयोजक समीर रतूड़ी का कहना है कि शिक्षामंत्री पहले ही यहां शिक्षकों के पद सृजित करवा लेते तो स्कूल बंद होने की नौबत नहीं आती. जबकि मुख्य शिक्षा अधिकारी दिनेश गौड़ का कहना है कि अभी तक विद्यालय में पद सृजित नहीं थे. पदों का सृजन होने पर ही लोकार्पण किया गया है.