यूपी : राहुल गांधी ने ग़ालिब के अंदाज में पीएम मोदी से पूछे सवालों के जवाब मांगे

गुरुवार को कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने यूपी के बहराइच में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी पर निशाना साधा और कहा कि प्रधानमंत्री उनके सवालों के जवाब देने से बच रहे हैं. उन्होंने कहा कि ‘ मैंने उनसे दो तीन सवाल पूछे जिसके जवाब नहीं दिए गए लेकिन जो सवाल पूछ रहे थे उसका मज़ाक उड़ाया गया.’ गांधी ने यह बात करते हुए मिर्ज़ा ग़ालिब का शेर पढ़ा और कहा ‘हर एक बात पे कहते हो कि तू क्या है…तुम्हीं कहो कि यह अंदाज़-ए-गुफ्तगू क्या है.’

गौरतलब है कि राहुल गांधी ने बुधवार को आरोप लगाया था कि गुजरात के मुख्‍यमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी ने सहारा और बिरला समूहों से पैसे लिए थे और इसकी स्वतंत्र जांच होनी चाहिए. भाजपा ने कांग्रेस उपाध्यक्ष के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए इसे अगस्ता वेस्टलैंड जांच से ध्यान भटकाने का प्रयास बताया जिसमें कांग्रेस नेताओं और ‘परिवार’ का नाम आ रहा है. इन्हीं आरोपों को बहराइच के रैली में राहुल गांधी ने दोहराते हुए कहा कि ‘सवाल यह है कि पीएम ने भ्रष्टाचार किया या नहीं. आप मेरा जितना मज़ाक उड़ाना चाहते हो उड़ाओ लेकिन आप देश के युवाओं और मेरे सवालों का जवाब दो. मोदी जी ये सवाल मैंने आपसे नहीं पूछे, ये सवाल हिंदुस्तान के युवाओं और गरीबों ने आपसे पूछे हैं.’

जन आक्रोश रैली को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर लगाए आरोपों को एक बार फिर मंच से दोहराया और कहा कि नोटबंदी का फैसला कालेधन के खिलाफ नहीं था, ये हिंदुस्तान के गरीबी लोगों के खिलाफ था. उन्होंने सवाल उठाया कि बैंकों की लाइन में क्यों कोई अमीर व्यक्ति नहीं दिखाई दिया. ये सारे अमीर आदमी बैंक के पीछे दिखाई देते हैं, लाइन में सामने नहीं आते.

वहीं वाराणसी दौरे पर गए पीएम मोदी ने गुरुवार की सुबह कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के ‘भूकंप’ वाले बयान का जवाब दिया. राहुल गांधी का नाम लिए बिना पीएम मोदी ने कहा जबसे युवा नेता ने बोलना सीखा और बोलाना शुरू किया है मेरी खुशी का कोई ठिकाना नहीं है. 2009 में पता ही नहीं चलता था कि इस पैकेट में क्या है. अब पता चला है. अगर वह न बोलते तो भूकंप आ जाता. देश को इतना बड़ा भूकंप झेलना पड़ता कि 10 साल तक भी देश नहीं उभर पाता. अच्छा है उन्होंने बोलना शुरू किया है. अब ‘भूकंप’ का कोई चांस नहीं है.