अंग्रेजों को एक और झटका, इंग्लैंड को पछाड़ पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बना भारत

भारत ने दो-तीन दिन पहले ही क्रिकेट के मैदान पर अंग्रेजों को धूल चटाते हुए टेस्ट सीरीज में उन्हें 4-0 से हराया था. अब अर्थव्यवस्था के मामले में भी भारत ने अंग्रेजों को पटखनी दे दी है. अर्थव्यवस्था के लिहाज से भारत ने यह कामयाबी 150 साल बाद हासिल की है. भारत अब इंग्लैंड को पछाड़कर दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है.

फोर्ब्स पत्रिका की एक रिपोर्ट में सोमवार को यह खुलासा किया गया. गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने भी ट्वीट कर इस खबर की पुष्टि की. रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 25 सालों में तेजी से बढ़ती भारत की अर्थव्यवस्था और ब्रिटेन में हाल ही में हुए ब्रेक्जिट के चलते यह समीकरण सामने आया है.

किरण रिजिजू ने इस रिपोर्ट को उत्साह के साथ ट्वीट किया है. इसके मुताबिक जर्मनी, जापान, चीन और अमेरिका अब भी भारत से बड़ी अर्थव्यवस्थाएं हैं. रिपोर्ट के मुताबिक पहले उम्मीद की जा रही थी कि भारत 2020 तक ब्रिटेन की जीडीपी से आगे निकल जाएगा, लेकिन पाउंड की कीमत में गिरावट के चलते भारत ने यह मुकाम 2016 में ही हासिल कर लिया है. ब्रेक्जिट की वजह से पाउंड की कीमत पिछले 12 महीनों में कम हुई है.

साल 2011 में सेंटर ऑफ इकोनॉमिक एंड बिजनेस रिसर्च ने भविष्यवाणी की थी कि भारत 2020 तक दुनिया की पांचवी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा. भारत ने यह उपलब्धि उसके अनुमान से चार साल पहले ही हासिल कर लिया है. इसके अलावा इसी साल 8 अक्टूबर को आईएमएफ ने भी अनुमान जाहिर किया था कि भारत इस साल के अंत तक यूरोपियंस को पीछे छोड़ देगा.

साल 2016 में 1.87 ट्रिलियन ग्रेट ब्रिटेन पाउंड (जीबीपी) की जीडीपी को एक डॉलर के मुकाबले पाउंड की 0.81 से बदलने पर यह 2.29 ट्रिलियन डॉलर होती है. वहीं भारत की 153 ट्रिलियन रुपये की जीडीपी को एक डॉलर के मुकाबले 66.6 रुपये के हिसाब से बदलने पर यह 2.30 ट्रिलियन पाउंड हो जाती है.

रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत और ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था में यह अंतर और बढ़ेगा. उम्मीद है कि भारत 6-8 फीसदी की रफ्तार से विकास करेगा, वहीं ब्रिटेन 1-2 फीसदी की रफ्तार से. अगर करेंसी की अंतरराष्ट्रीय कीमतों में उतार-चढ़ाव भी आता है तो भी इन आंकड़ों में ज्यादा अंतर आने की संभावना नहीं है.