हरिद्वार : दक्षिण के महान संत, कवि तिरूवल्लूवर की प्रतिमा का अनावरण

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने हरिद्वार में दक्षिण भारत के महान संत, कवि और समाज सुधारक तिरूवल्लूवर की प्रतिमा का अनावरण किया. इससे पहले प्रतिमा को लेकर इसी साल की शुरुआत में जबरदस्त हंगामा हुआ था, उस समय प्रतिमा को स्थापित नहीं की जा सकी थी.

हरिद्वार के मेला नियंत्रण भवन ‘अगस्त क्रांति भवन’ में सोमवार को संत तिरूवल्लूवर की प्रतिमा का अनावरण करते हुए मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि प्राचीन काल के महान संत की मूर्ति स्थापना उत्तराखंड की गंगा-जमुनी संस्कृति के विकास की दिशा में महत्वपूर्ण कदम है और यह उत्तर-दक्षिण की संस्कृति को जोड़ने का कार्य करेगी.

अस्थायी राजधानी देहरादून में जारी एक सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार, मुख्यमंत्री ने कहा कि तिरूवल्लूवर महान कवि, दार्शनिक और चिंतक थे तथा उनकी मूर्ति की स्थापना उत्तराखंड राज्य का गौरव बढ़ाएगी.

प्रतिमा स्थापना को उत्तर तथा दक्षिण संस्कृति के मिलन का दिन बताते हुए हरीश रावत ने कहा कि तिरूवल्लूवर के दोहे सदैव हमारा मार्गदर्शन करेंगे. महान संत तिरूवल्लूवर के विचार आज भी प्रासंगिक हैं और इनका पालन कर हम अच्छे नागरिक और मानव बन सकते हैं. गंगा की संस्कृति में तमिल संस्कृति के संगम से हमारी संस्कृति और अधिक समृद्ध हुई है.

इस अवसर पर कांची कामकोटी पीठ्म के प्रतिनिधि पीएन रविशंकर दवे, डॉ. चिन्नापन भास्कर, एम. गणेशन, डॉ. जनाशेखरन, स्वामी जमूनानन्द, स्वामी षड्मूनानन्द तथा तमिल समुदाय के प्रतिनिधियों के अलावा वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी तथा समाज के गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे.