उत्तराखंड में अपार संभावनाएं, निवेश अनुकूल वातावरण बनाया जाए : राज्यपाल

उत्तराखंड के राज्यपाल डॉ. कृष्ण कांत पाल ने सोमवार को कहा कि अपार संभावनाओं वाले इस प्रदेश में अधिक से अधिक निवेश आकर्षित करने के लिए अनुकूल वातावरण बनाया जाना चाहिए.

‘उत्तराखंड के सतत् विकास के लिए – मार्ग प्रशस्त’ विषय पर यहां आयोजित एक वैचारिक मंथन कार्यक्रम में पाल ने कहा कि इस दिशा में यद्यपि प्रयास जारी है, लेकिन उत्तराखंड जैसे पहाड़ी राज्य के सतत् विकास के लिए सर्वाधिक अनुकूल जड़ी-बूटियां, औषधीय पौधों, खाद्य प्रसंस्करण, कुटीर उद्योग, पर्यटन तथा सूचना प्रौद्योगिकी जैसे क्षेत्रों में विशेष ध्यान देने की जरूरत है.

अस्थायी राजधानी देहरादून स्थित राजभवन से जारी एक विज्ञप्ति के अनुसार, सस्टेनेबिलिटी और विकास के बीच संतुलन को जरूरी बताते हुए राज्यपाल ने कहा कि उपलब्ध प्राकृतिक संसाधनों का बिना छेड़छाड़ किए भरपूर उपयोग करने की जरूरत है और इसमें युवा जनसंख्या का संपदा के रूप में सदुपयोग किया जा सकता है.

उन्होंने उत्तराखंड के विकास के लिए राज्य के सभी इलाकों में अच्छे सड़क संपर्क को आवश्यक बताते हुए यह भी कहा कि राज्य के दूरस्थ इलाकों के लोगों के लिए उनके उत्पादों को विपणन करना एक बहुत बड़ी समस्या है जिसे अधिकारिक स्तर पर हल किया जाना है.

पाल ने कहा कि तेजी से बदलते वैश्विक आर्थिक परिदृश्य के दृष्टिगत राज्य सरकार को अपनी अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए एक ऐसी नयी औद्योगिक नीति बनानी चाहिए जो नए निवेश को आकर्षित करे तथा मौजूदा उद्योगों के पुनरोद्धार/विकास को सुनिश्चित करते हुए प्राकृतिक संसाधनों व कौशल का संतुलित उपयोग कर सके.