अब तक 11 पति बदल चुकी है यह ‘लुटेरी दुल्हन’ | जानिए और भी राज़

एमबीए पास. गोरा रंग. पांच फीट दो इंच लंबाई. पढ़ा-लिखा परिवार. दिव्यांग और तलाकशुदा लड़के को शादी के लिए इस तरह की लड़की मिल जाए तो मानो लॉटरी ही लग गई. देशभर के एक-दो नहीं, बल्कि 11 दिव्यांग और तलाकशुदा लड़कों को ऐसी दुल्हन मिली. फर्क बस इतना था कि दूल्हे हर बार अलग थे, लेकिन दुल्हन एक थी. जिसका नाम है मेघा भार्गव. आश्चर्य हुआ न, लेकिन यह सत्य है.

पुलिस के अनुसार, आरोपी मेघा भार्गव (26) सेक्टर-120 स्थित आम्रपाली जोडिऐक सोसायटी में के जेड टावर के फ्लैट नंबर 1104 में अपनी बहन प्राची भार्गव और जीजा देवेंद्र शर्मा के साथ रह रही थी. ये लोग मूलरूप से मध्यप्रदेश (इंदौर) के रहने वाले हैं. केरल में लाखों रुपये की ठगी के मामले में वहां की पुलिस इन्हें तलाश कर रही थी. इनकी लोकेशन मिलने पर केरल पुलिस एक सप्ताह से नोएडा में डेरा डाले हुए थी.

फेज थ्री पुलिस के सहयोग से दबिश देकर तीनों को गिरफ्तार कर लिया गया. शुरुआती जांच में पता चला है कि अपनी बहन और जीजा की मदद से दुल्हन बनकर मेघा 11 परिवारों को चूना लगा चुकी है. केरल, मुंबई, पुणे, राजस्थान आदि में इन्होंने वारदात को अंजाम दिया है. करीब डेढ़ महीना पहले आरोपियों ने सोसायटी में किराये पर फ्लैट लिया था.

25 वर्षीय मेघा भार्गव ने मध्य प्रदेश के इंदौर, महाराष्ट्र के पुणे-मुंबई, राजस्थान और केरल में पिछले तीन वर्षों में 11 शादी की. शादी के एक सप्ताह के अंदर ही ससुराल वालों को खाने में नींद की गोली देकर वह घर से ज्वेलरी और नकदी समेटकर भाग जाती थी. इस तरह उसने लगभग एक करोड़ से ज्यादा की ठगी की. मेघा ने आखिरी शादी त्रिवेंद्रम केरल के रहने वाले लॉरेंन जोसटिस से की थी. शादी के बाद करीब 15 लाख का माल समेट कर वह फरार हो गई थी, जिसकी जांच केरल पुलिस कर रही थी. सर्विलांस के माध्यम से शनिवार को केरल पुलिस आम्रपाली जोर्डिक अपार्टमेंट सेक्टर 120 पहुंची. जहां से उसे गिरफ्तार किया गया. ठगी के धंधे में सहयोग करने वाली उसकी बहन प्राची और जीजा देवेंद्र शर्मा को भी गिरफ्तार किया गया.

तीनो को सूरजपुर कोर्ट में पेश किया गया. जहां से ट्रांजिट रिमांड पर केरल ले जाया गया. मेघा उसकी बहन प्राची और जीजा देवेंद्र ने जल्द पैसा कमाने के लिए लुटेरी दुल्हन बनने की योजना बनाई. इसके लिए मालवा इंदौर के रहने वाले महेंद्र बुंदेला से मेघा ने संपर्क किया. महेंद्र ने सबसे पहले मेघा की इंदौर में ही शादी कराई. जहां से वह 11.5 लाख रुपये की ज्वेलरी और नकदी लेकर भागी. फिर मुंबई में शादी की. जहां से 40 लाख का माल लेकर भागी. फिर पुणे में शादी की, जहां से 90 लाख का माल लेकर फरार हुई. केरल में ही कीं 5 शादी केरल पुलिस कोच्चि के एक मामले में इनकी तलाश कर रही थी.

वहां के रहने वाले लॉरेन जोसटिस के साथ मेघा ने धोखे से शादी कर ली थी. शादी के एक हफ्ते के अंदर ही वह घर की तिजोरी से 15 लाख रुपये कैश और लाखों की जूलरी लेकर चंपत हो गई थी. लॉरेन ने वहां इसकी रिपोर्ट दर्ज करवाई थी.
जांच के दौरान केरल पुलिस को पता चला था कि आरोपी दुल्हन पहले भी 4 शादियां करके लूटपाट कर फरार हो गई थी. उसके बाद उसने 6 शादियां और की थी. गिरफ्तारी के बाद उसने पुलिस को बताया कि उसने पहले 3 शादियां की थी, लेकिन उसकी बनी नहीं और तलाक हो गया. इसके बाद चौथे से भी उसकी नहीं पटरी बैठी, तो उसे बिना तलाक दिए ही भाग निकली.

अकेले केरल में ही उसने 5 शादियां की थीं. बिचौलिया कराता था शादी पकड़ी गई दुल्हन के लिए एक बिचौलिया दुल्हे खोजकर लाता था. ये लोग ऐसे घरों को टारगेट करते थे, जो बेहद अमीर हों और उनके लड़कों की शादी न हो पा रही हो. इसके अलावा ये लोग तलाकशुदा या दिव्यांग युवकों को भी टारगेट करते थे. दुल्हन की खूबसूरती देखकर लड़के वाले तुरंत शादी के लिए तैयार हो जाते थे.

पहले ही कर लेते थे रेकी

बिचौलिये की मदद से मेघा की जिस घर में शादी करवाई जाती थी, वहां उसकी बहन और जीजा लड़के के परिवार वालों से मुलाकात के बहाने रेकी करते थे. इसके बाद ये लोग जल्दी शादी करने का दबाव डालते थे. शादी के बाद मेघा ससुराल वालों का विश्वास जीतकर सारी जानकारी हासिल कर लेती थी. इसके बाद किसी दिन मौका देखकर ससुराल वालों को नींद की गोली देकर जूलरी और कैश लेकर चंपत हो जाती थी. केरल पुलिस इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस के आधार पर इन तक पहुंचने में कामयाब हो गई.