डोनाल्ड ट्रंप की चीन को दो टूक- ‘चोरी किया ड्रोन रख लें, हमें उसकी जरूरत नहीं’

वाशिंगटन।… अमेरिका के नव निर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की चीन से तनातनी जारी है. चीन द्वारा पानी के भीतर अमेरिकी ड्रोन को पकड़ने के मामले में ट्रंप ने कहा है कि अमेरिका को इस चोरी किए गए उपकरण को अब चीन से वापस नहीं लेना चाहिए. पानी के भीतर की स्थितियों की पड़ताल करने के लिए अमेरिका के एक मानवरहित ड्रोन को चीन ने बीते 15 दिसंबर को दक्षिण चीन सागर से जब्त किया था.

अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन ने इस पर बयान जारी करके कहा था कि चीन ने अंतरराष्ट्रीय जल सीमा से ड्रोन को पकड़कर सही कार्य नहीं किया है. उक्त ड्रोन व्यावसायिक कार्यों के लिए जानकारी इकट्ठा करने के लिए पानी के भीतर भ्रमण कर रहा था. ड्रोन पर स्पष्ट लिखा था कि वह अमेरिकी संपत्ति है. अमेरिका ने इस पर नियमानुसार कूटनीतिक आपत्ति दर्ज कराई थी और जब्त किए गए ड्रोन को चीन से वापस मांगा था.

चीन ने शनिवार को अपने अधिकार वाले दक्षिण चीन सागर में अमेरिका द्वारा ड्रोन भेजे जाने की निंदा की, लेकिन साथ ही उसे वापस देने के लिए भी तैयार हो गया. लेकिन इसी बीच नव-निर्वाचित राष्ट्रपति ट्रंप ने इस मामले में ताजा बयान देकर मामले में उलझन पैदा कर दी है. उन्होंने कहा है कि इस चोरी की गई चीज को अब अमेरिका को भूल जाना चाहिए और उसे वापस नहीं लेना चाहिए.

इससे पहले ट्रंप ने अमेरिकी नौसेना के शोध करने वाले ड्रोन को चीन द्वारा चुराए जाने की बात ट्विटर के जरिए कही थी. इससे पहले ट्रंप ताइवान की राष्ट्रपति से बात करके ‘वन चाइना’ की नीति से अलग हटने का भी संकेत दे चुके हैं. चीनी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता यांग यूजुन ने अमेरिका के सभी आरोपों को खारिज किया है और कहा है कि इलाके से गुजरने वाले जहाजों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए अमेरिकी ड्रोन को जब्त किया गया.