चायवाले से फायनेंसर बने सूरत के इस शख्स से 10.50 करोड़ की संपत्ति ज़ब्त

नोटबंदी के बाद कालाधन के खिलाफ कार्रवाई करते हुए गुजरात के सूरत में आयकर विभाग ने चायवाले से फायनेंसर बने एक व्यक्ति के खिलाफ छापा मारकर उसके पास से साढ़े दस करोड़ रुपये की कथित अघोषित संपत्ति जब्त की है.

आयकर विभाग के अधिकारियों ने शनिवार को चाय बेचने वाले के परिसरों पर छापा मारकर पौने दो करोड़ रुपये नकद, 1.05 करोड़ रुपये की नई मुद्रा, 1.49 करोड़ रुपये के जवाहरात, 4.92 करोड़ रुपये की कीमत के सोने के आभूषण, 1.39 करोड़ रुपये के अन्य आभूषण और 1.28 करोड़ रुपये की चांदी बरामद की है.

आई-टी सूत्रों ने बताया कि जांच चलने के कारण इस वक्त वे उस व्यक्ति के नाम का खुलासा नहीं कर सकते लेकिन इस फायनेंसर के पास से उन्होंने साढ़े दस करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की है. यह व्यक्ति इससे पहले ‘चायवाले’ के रूप में काम करता था.

उन्होंने बताया कि अब तक उसके 13 बैंक लॉकर को खोला जा चुका है और चार और लॉकर को खोलना बाकी है, ऐसे में जब्त संपत्ति में इज़ाफा होने की संभावना है. सूत्रों ने बताया कि नोटबंदी के बाद करदाताओं के कालाधन के खिलाफ जांच के तहत शहर में यह कार्रवाई की गई.