बेंगलुरू : स्मार्टफोन पहुंचाने गए फ्लिपकार्ट डिलीवरीमैन की गला रेतकर हत्या

फ्लिपकार्ट क लिए काम करने वाला नन्जुन्दास्वामी एक स्मार्टफोन की डिलीवरी देने के लिए 9 दिसंबर को बेंगलुरू में एक जिम में पहुंचा लेकिन जिस व्यक्ति (जिम ट्रेनर) ने उस फोन का ऑर्डर दिया था वह चाकू लेकर उसका इंतज़ार कर रहा था. कुछ दिन बाद 29-वर्षीय नन्जुन्दास्वामी की लाश बरामद हुई  जिसका गला रेता दिया गया था.

दरअसल, 22-वर्षीय जिम ट्रेनर वरुण कुमार के पास इतने पैसे नहीं थे कि वह स्मार्टफोन खरीद सकता तो उसने किसी भी कीमत पर फोन हासिल करने की साज़िश रची भले ही उसके लिए उसे डिलीवरी करने आए शख्स का कत्ल ही क्यों न करना पड़े.

हाल ही में जिम में नौकरी शुरू करने के बाद वरुण ने पाया कि उसके अधिकतर सहकर्मियों के पास स्मार्टफोन हैं सो उसने भी अपने पिता से ऐसा ही फोन दिलाने का अनुरोध किया लेकिन उससे कह दिया गया कि स्मार्टफोन उसे खुद पैसे कमाकर खरीदना होगा.

इसके बाद वरुण ने ऑनलाइल जाकर स्मार्टफोन का ऑर्डर कर दिया और अपने पते के तौर पर जिम का पता दे दिया. पुलिस का कहना है कि वरुण ने स्मार्टफोन डिलीवर करने पहुंचे नन्जुन्दास्वामी पर लोहे की छड़ और फूलदान से हमला किया. जब नन्जुन्दास्वामी बेहोश हो गया वरुण ने कथित रूप से उसका गला रेत डाला और फिर उसके शव को घसीटकर तहखाने में ले गया.

वरुण ने लगभग 12,000 रुपये कीमत वाला स्मार्टफोन तो कथित रूप से अपने पास रख ही लिया. उसने नन्जुन्दास्वामी के बैग में मौजूद अन्य फोन भी चुरा लिए.

जब दो दिन तक नन्जुन्दास्वामी घर नहीं लौटा. तो उसके परिवार ने गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई. जब पुलिस उसकी आखिरी जिलीवरी की जगह तलाशती हुई जिम की इमारत तक पहुंची. उन्हें नन्जुन्दास्वामी का शव तहखाने में मिल गया. जल्द ही कड़ियां वरुण तक पहुंच गईं. जिसने कत्ल के बाद से जिम को बंद ही कर रखा था. उसे इसी हफ्ते गिरफ्तार किया गया है.

पुलिस का मानना है कि वरुण ने कत्ल की साज़िश पहले से रच रखी थी, क्योंकि उसने फोन की डिलीवरी से एक दिन पहले ही रसोई में इस्तेमाल होने वाला चाकू लाकर जिम में रख लिया था. अब इस बात का पता लगने की कोशिश की जा रही है कि क्या इस अपराध में वरुण ने किसी की मदद ली थी.

फ्लिपकार्ट के प्रवक्ता के मुताबिक नन्जुन्दास्वामी एक एजेंसी में नौकरी करता था. जो ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी फ्लिपकार्ट के लिए डिलीवरी का काम करती थी. प्रवक्ता ने यह भी कहा कि नन्जुन्दास्वामी के परिवार को आर्थिक सहायता दी जाएगी.