‘CM हरीश रावत पर खनन माफिया से संबंध के आरोप, अकाट्य सबूत होने की बात’

मातृसदन के परमाध्यक्ष स्वामी शिवानंद सरस्वती ने मुख्यमंत्री पर गंभीर आरोप लगाए हैं. उन्होंने दावा किया कि मुख्यमंत्री के खनन माफिया के साथ संबंध हैं. इसके उनके पास सबूत भी हैं. ऐसे में मुख्यमंत्री को राजनीति छोड़ देनी चाहिए.

उन्होंने जिलाधिकारी हरिद्वार पर मुख्यमंत्री के इशारे पर खनन माफिया का साथ देने व केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) का आदेश न मानने और उसे कागजी लिखा-पढ़ी में उलझाने का आरोप लगाया.

स्वामी शिवानंद ने शनिवार को मातृसदन में पत्रकारों से बातचीत में दावा किया कि उनके पास सीएम के खनन माफिया से संबंधों के अकाट्य सबूत हैं. मुख्यमंत्री चाहें तो मातृसदन सबूत पेश कर सकता है. मुख्यमंत्री ने केंद्रीय मंत्री रहते हुए भी खनन माफिया को संरक्षण दिया. यही वजह है कि सरकार ने खनन करते पकड़े जाने पर लगने वाले एक लाख रुपये के जुर्माने को घटाकर 10 हजार रुपये कर दिया.

shivanand

स्वामी शिवानंद ने सरकार और जिलाधिकारी हरबंस सिंह चुघ पर 18 मार्च 2016 के बाद खनन व क्रशिंग को लेकर कैबिनेट के फैसले को छिपाने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि वैसे तो सरकार और प्रशासन उन्हें अपने हर आदेश से अवगत कराता है, लेकिन इस मामले में ऐसा नहीं किया.

अब उसी आदेश को लेकर जिलाधिकारी सीपीसीबी के आदेशों को मानने में हीलाहवाली कर रहे हैं, उसे कागजी लिखा-पढ़ी में उलझा रहे हैं.